Sahara India Refund Portal : अमित शाह ने आज अटल ऊर्जा भवन से जारी की पहली राशि, इतने सहारा निवेशकों को मिला पैसा

Sahara India Latest News : सहारा इंडिया की चार बड़ी सहकारी समितियों में अपना पैसा फसाकर बैठे सहारा इंडिया परिवार से पीड़ित जमाकर्ता एवं निवेशकों को आज यानी की 4 अगस्त 2023 को बड़ा उपहार मिला है। जानकारी के अनुसार सहारा क्रेडिट सोसाइटी में अपनी गाडी कमाई फ़साने वाले निवेशकों को आज सहकारिता मंत्री अमित शाह ने RS 10,000 की राशि देकर उनका डूबा पैसा बापस मिलने की उम्मीद एक बार फिर जगाई है।   

सहारा इंडिया परिवार के निवेशक पिछले काफी लंबे दर्जे से अपने खुस पसीने के पैसे बापस मिलने की उम्मीद में दिन काट रहे थे जिनको एक बड़ा उपहार 18 जुलाई 2023 को सहारा रिफंड पोर्टल के रूप में सहकारिता मंत्रालय ने दिया था अब राशि भी जारी हो चुकी है, खबर है की पोर्टल पर करीब 18 लाख जमाकर्ताओं का सफल पंजीकरण हो चूका है जिनमे से अभी तक 14 लाख लोग वेरीफाई भी किये जा चुके है अब उनसे सहकारिता मंत्रालय ने 45 दिन का समय माँगा है जिसके बाद वेरिफिकेशन प्रिक्रिया होने के बाद उनके बैंक खातों में राशि जारी की जाएगी। 



Sahara India Ki Latest News Kya Hai ?

सहारा इंडिया के पोर्टल से जरूर राशि जारी हो चुकी है परंतु सहारा निवेशक आज भी असंतुष्ट दिखाई दिया गया है जहा पर जब सहारा इंडिया के खिलाफ निवेशकों की आवाज बनकर उभरे संगठनो से जब बात की गई तो उन्होंने बताया की इस रिफंड पोर्टल पर केवल 10 हजार रूपये बापस मिलने की निवेशकों को खुशी भी है और गम भी है, जहा पर सरकार से निवेशक कफा इसीलिए है क्योकि सहारा रिफंड पोर्टल पर इस समय केवल 10 हजार रूपये ही लौटाए जा रहे है वही निवेशकों ने यह साफ़ कर दिया है की सरकार हमको 10 हजार की भीख देकर अगर वोट बटोरना चाहती है तो हम सरकारों को मतदान नहीं करेंगे। 



आज इतने लोगो के बैंक खातों में आया पैसा 

सहकारिता मंत्रालय से आई ताजा जानकारी के अनुसार आज माननिये सहकारिता मंत्री अमित शाह ने CRCS के दफ्तर से पोर्टल राशि बितरण की शुरुवात करते हुए सहारा के करीब 122 पीड़ित निवेशकों के बैंक खातों में राशि ट्रांसफर की है इसी के साथ शाह ने कहा है की जल्द सभी जमाकर्ताओं का भुगतान पूर्ण ब्याज के साथ उनको जल्द से जल्द लौटाया जायेगा। 




Breaking News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *