Sahara India Refund News : सहारा इंडिया क्रेडिट सोसाइटी का भुगतान करने सुप्रीम कोर्ट ने आज दिया अहम फैसला

Sahara India Latest News : सहारा इंडिया मामले में निवेशकों को जिसका सबसे ज्यादा इंतजार था वो था उन सभी लोगो का भुगतान और सरकार की इस मामले में रूचि थी क्योकि सहारा इंडिया मामले में यह देखा जा रहा था की केंद्र सरकार इस मामले में ध्यान केंद्रित नहीं कर रही थी जिसकी मांग को लेकर सड़क से लेकर संसद तक काफी बाद – बिबाद छिड़ा हुआ था वही सहारा से पीड़ित निवेशक लगातार प्रदर्शन कर अपनी मांग को सरकार तक पंहुचा रहा था।  




 


सहारा इंडिया मामले को लेकर अब सुप्रीम कोर्ट ने आज की प्रमुख “सहारा इंडिया क्रेडिट सोसाइटी” मामले में सुनवाई करते हुए बड़ा फैसला दिया है। जानकारी के मुताबिक केंद्र सरकार ने कुछ दिन पूर्व  क्रेडिट कोआपरेटिव सोसाइटी के आधीन आने वाली सहारा इंडिया क्रेडिट सोसाइटी से जुडी सभी 4 सोसाइटी के निवेशकों की शिकायत पर एक बड़ी बैठक की थी जिसमे सेबी समेत MCS (सहकारिता मंत्रालय) की बड़ी बैठक माननिये सहकारिता मंत्री अमित शाह ने ली थी। हालांकि, इसके बाद शुक्रवार यानी की 17 मार्च 2023 की सुनवाई में केंद्र सरकार ने माननिये उच्त्तम न्यायलय में कुछ जरुरी पक्ष रखते हुए सहारा इंडिया क्रेडिट सोसाइटी के निवेशकों का भुगतान करने सहारा सेबी रिफंड खाते से करीब 5000 करोड़ रूपये की मांग की थी। 


अब सहारा का पक्ष रखेंगे कपिल सिब्बल : सूत्र 

आज भी माननिये उच्चतम न्यालय में सहारा इंडिया क्रेडिट सोसाइटी को लेकर सुनवाई हुई है जिसमे माननिये उच्चतम न्यायलय ने सहारा इंडिया क्रेडिट सोसाइटी के निवेशकों को 5000 करोड़ की राशि जारी कर दी है। हालांकि सहारा इंडिया के तरफ से 27 मार्च 2023 को माननिये उच्चतम न्यायलय ने मामले को लेकर सहारा समूह से राय मांगी है वही सहारा इंडिया क्रेडिट सोसाइटी के लंबित भुगतान करने हेतु MCS समेत केंद्र सरकार को 6 महीने का समय दिया गया है। 


आज माननिये उच्त्तम न्यायलय में यह लोग रहे मौजूद 


आज सहारा इंडिया क्रेडिट सोसाइटी की सुनवाई के दौरान अमरेश कुमार शर्मा, मनोज कुमार अग्रवाल, केशव सिंह सिकरवार, साजिद खान, अनुपम,आशीष कालरा समेत वीके श्रीवास्तव जी आज अपनी भुगतान की मांग के लिए मानिये उच्चतम न्यायलय में मौजूद रहे। 


Breaking News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *