Sahara India News : सुब्रत रॉय की चोरी में उनके साथ खड़ी दिखी मोदी सरकार, क्या है यह चुनावी मसला

Sahara India Latest News : सहारा इंडिया में फसे निवेशकों के पैसे मिलने का नाम नहीं ले रहे है और ऐसे में सहारा प्रमुख सुब्रत रॉय सहारा को प्रोटेक्ट कर रही मोदी सरकार लगातार उनको सभी आरोपों से बचाने में लगी है जिसमे मुख्य रूप से देश के प्रधानमंत्री मोदी और ग्रह एवं सहकारिता मंत्री अमित शाह भी सम्मलित है। एक रिपोर्ट के अनुसार सहारा इंडिया की सहकारी समितियों में निवेशकों का करीब Rs 86000 Crore रुपया जमा है फिर कैसे मोदी सरकार केवल Rs 5000 करोड़ के लॉलीपॉप से 10 करोड़ सहारा निवेशकों का भुगतान करने जा रही है। 




सुब्रत रॉय सहारा ने देश में केवल financial fraud ही नहीं किया है बल्कि हाथ ठेले वाले, मजदुर एवं गरीब लोगो के पेट पर भी लात मारी है वही इस गलती को न स्वीकारना इससे बड़ी गलती है जो की सुब्रत रॉय सहारा की जिंदगी से अब जुड़ चुकी है और ऐसे में आम जनता के मसीहा बनने वाले और देश की लोकसभा में बिराजमान इस देश के संसद एवं पोलिटिकल पंडित अपने आप को सुब्रत रॉय से जोड़ने में कोई कसर छोड़ते नजर नहीं आये। 




इन जगहों पर सुब्रत रॉय ने डाला खुला डाका 

सुब्रत रॉय का फाइनेंसियल स्कैंडल कोई छोटा मोटा स्कैंडल नहीं है बल्कि इस फ्रॉड में देश की आधी जनता के साथ छलावा करने में सुब्रत रॉय सहारा ने शायद पीएचडी हासिल कर रखी है वही सुब्रत रॉय के कुछ ख़ास स्कैम कुछ इस प्रकार है :-

क्या निवेशकों के साथ पॉलिटिक्स खेल रही मोदी सरकार 

सहारा इंडिया में देश के करोडो निवेशकों ने अपनी जमा पूंजी केवल इसलिए जमा की थी की आने वाले समय में जब भी निवेशकों को उनकी पूंजी बापस मिले तो वह उससे अपने किसी सकारात्मक काम में इस्तेमाल कर सके वही उस पूंजी से किसी ने अपनी बेटी के शादी से जुड़े सपने सजोये थे किसी ने अपनी सफल सर्जरी का सपना देखा था किसी ने अपने बच्चो की पढाई के लिए पैसा जमा किया था परंतु लोगो की आर्थिक हालत, उनके बजूद सभी चीजों को त्याग कर सरकार और इस देश का न्यायलय सहारा प्रमुख के साथ तमाशा कर गरीब ब्यक्तियो (निवेशकों) को मरता हुआ देख रहे है।   




इस देश का सुप्रीम कोर्ट न्याय की बात करता है परंतु जब बात सहारा पर आती है तो सहारा एक से एक वकीलों की टीम खड़ी कर उस गरीब जमाकर्ता के सामने पंहुचा देती है वही उस गरीब ब्यक्ति पर एक समय की रोटी सुख एवं शांति से खाने का समय नहीं है तो वह कैसे इन लुटेरी कंपनी के खिलाफ न्यायलय पहुंचे परंतु इस स्थिति को न्यायलय शायद इतने सालो में नहीं समझ सका है जिसके कारण आज देश की न्यायपालिका पर भी सहारा के कारण कीचड़ उछली है। 



शायद मोदी सरकार के दामाद है सुब्रत रॉय 

यह बात उस समय की है जब समाजवादी पार्टी के नेता मुलायम सिंह यादव अस्पताल में भर्ती थे और सहारा प्रमुख सुब्रत रॉय उनसे मिलने के लिए खुलेआम उनके अस्पताल पहुंचे थे जहा पर देश के बड़े बड़े राजनेताओ के साथ सुब्रत रॉय सहारा चाय पीते हुए नजर आये थे वही उस बक्त की तस्बीर आप खुद देख सकते है। 
Source : Web




अब निवेशकों की बारी 

देश में जल्द ही लोकसभा एवं कई राज्यों में बिधानसभा चुनाव आने वाले है और अब सबसे बड़ी जिम्मेदारी इस देश के सहारा निवेशक के ऊपर टिकी हुई है की आने वाले चुनाबों में वह सहारा और मोदी सरकार का बहिष्कार करेगा क्योकि अगर सहारा इंडिया का संपूर्ण भुगतान नहीं रो आगामी चुनाबों में डोलती मोदी सरकार को मतदान नहीं। 
 



Breaking News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *