Months format

Show More Text

Load More

Related Posts Widget

Article Navigation

Contact Us Form

Sahara India Refund क्लेम करना होगा आसान, सहकारिता राज्य मंत्री बीएल वर्मा ने बताया तरीका


Sahara India Refund News : सहारा इंडिया परिवार लगातार बिपरीत परिस्थितियों का सामना कर रहा है। एक तरफ सहारा ग्रुप ऑफ़ कम्पनीज लीगल मामलो में फसी हुई है जबकि अगर बात सहारा प्रमुख सुब्रत रॉय की करे तो सुब्रत पिछले काफी लम्बे समय से खामोश बने हुए है वही प्रमुख की खामोसी ही वह कारन बनी की सहारा आज डूबने के कगार पर है वही सहारा की उम्मीद तब और टूट गई जब सरकार भी निवेशक के साथ खड़ी हो गई वही सहारा इंडिया ने माननिये दिल्ली उच्च न्यायलय में चल रहे केस को भी अब बापस ले लिया है। 
इसी के साथ अगर बात सहारा इंडिया से सताए निवेशकों की करे तो निवेशक इस समय सहारा इंडिया सहकारिता समितियों में फसे अपने पैसे को क्लेम करने सहकारिता मंत्रालय पर अपने भुगतान की शिकायत कर रहे है वही जब हमारी मीडिया टीम CRC (Central Registar Of Cooperative Socities) के दफ्तर पहुंची तो वह बोरे भरकर रोज की शिकायते पहुंच रही है जिसको डाटा पंच करने के बाद सहकारिता मंत्रालय सत्यापन के लिए भेज रहा है।  

Central Registrar Of Cooperative Socities, Sahara India Money Refund Process
CRCS में रोजाना जमकर पहुंच रही निवेशकों की शिकायत 
सहकारिता राज्य मंत्री से हुई मुलाकात 

सयुक्त आल इंडिया संघर्ष न्याय मोर्चा सहित न्यूज़ दुनिया मीडिया प्राइवेट लिमिटेड की टीम जब माननिये सहकारिता राज्य मंत्री बीएल वर्मा जी से मिलने पहुंचे तो हमने उनसे कुछ मुख्य सवाल पूछे जो सीधे सहारा इंडिया के पीड़ित जमाकर्ताओं समेत एजेंटो से जुड़े थे जिसका उत्तर माननिये राज्य सहकारिता मंत्री ने हमको दिया है तो चलिए बताते है की हमने क्या सवाल पूछे जिसपर बीएल वर्मा जी ने हमको क्या उत्तर दिया। 
1. सहारा इंडिया भुगतान का रोडमैप क्या रहेगा ?
उत्तर : सहारा इंडिया सहकारिता समितियों में निवेशकों ने जमकर पैसा लगाया है जिसपर अब सहारा इंडिया की चार सोसाइटी जो की हमारा इंडिया, सहारायन सोसाइटी, स्टार मल्टीपर्पसे सहित सहारा इंडिया क्रेडिट सोसाइटी से जुड़े आवेदन सहित निवेशकों के भुगतान क्लेम को लेकर सहकारिता मंत्रालय लगातार निवेशकों की शिकायत ले रहा है वही निवेशक भी जमकर शिकायत कर रहे है वही सहकारिता मंत्रालय जल्द कमिटी बनाने जा रहा है जहा पर जल्दी से जल्दी छोटे निवेशकों (5000 से लेकर 50000 वाले) निवेशक का भूगतान (बांड कार्ड पर डली राशि के अनुसार)  पहले फेज में देने जा रहा है कोई भी निवेशक को चिंता करने की बात नहीं है छोटे से लेकर बड़े राशि तक के सभी जमाकर्ताओं को जल्द उनका पैसा बापस मिले ऐसी तैयारी की जा रही है।  
2. क्या जो CRC में शिकायत करेगा उसी निवेशक का भुगतान होगा ?
उत्तर : देखिये CRC सभी दावों के आधार पर ही सत्यापन करेगा जिसके बाद ही हम रिफंड सीधे निवेशकों के खातो में जारी कर सकते है। इसी के साथ सिर्फ उन्ही लोगो का पैसा मिलेगा जो CRC के अधीन अपनी शिकायत दर्ज कराएगा।  
3. अभी तक कितने हजारो / करोडो की शिकायत सहकारिता मंत्रालय पर पहुंची है ? 
उत्तर : सहकारिता मंत्रालय के पास रोजाना हजारो शिकायत जरूर आ रही है वही जब CRC ने एक अनुमान लगाया तो अभी तक केवल 2200 करोड़ की ही शिकायते प्राप्त हो सकी है। इसका मतलब अभी साफ़ है की देश के कई सहारा पीड़ित जमाकर्ता की शिकायत CRC तक अभी भी नहीं पहुंच पाई है परंतु इन 2200 करोड़ से जुड़े दावों पर सत्यापन प्रिक्रिया जल्द शुरू होने वाली है।  

4. क्या शिकायत करते समय निवेशक अपनी एक्सेल शीट दाखिल कर शिकायत कर सकता है ?
उत्तर : हां बिलकुल निवेशक एक लेटर टाइप करा ले जिसपर वह अपने बारे में, अपने निवेश के बारे में जानकारी उपलब्ध करा दे जिसके बाद अपने निवेश से जुडी जानकारी एक एक्सेल शीट के फॉर्म में प्रेजेंट कर सहकारिता मंत्रालय को भेज सकता है उसके आधार पर भी सहकारिता मंत्रालय उनका सत्यापन करेगा। 
5. कई लोग कुछ न कुछ शिकायत के साथ लगाना भूल गए है तो उनका क्या होगा ?
उत्तर : कोई दिक्कत की बात नहीं है निवेशक ने शिकायत करते समय अपना मोबाइल नंबर पता सहित अन्य आवश्यक जानकारी पोस्ट कार्ड पर साझा की है जिसके माध्यम से अगर कुछ कमी लगती है तो खुद सहकारिता मंत्रालय उनसे संपर्क कर आवश्यक दस्ताबेज की मांग करेगा और उसके हिसाब से रिफंड जारी किया जायेगा। 
6. जिनका लाखो - लाख रुपया सहारा की सोसाइटी में जमा है उनका क्या होगा ?
उत्तर : इस मामले में सहकारिता मंत्रालय के साथ ED सहित इनकम टैक्स अफसरों का साथ लिया जायेगा और सभी बड़े निवेशकों का डाटा वेरीफाई होने के बाद उनके खातो में RTGS के माध्यम से रिफंड जारी किया जायेगा।
 

No comments:

Lorem ipsum, or lipsum as it is sometimes known, is dummy text used in laying out print, graphic or web designs.