Sahara India Policy Refund : बहुत जल्द नीलाम हो सकती है सुब्रत रॉय सहारा के सपनो वाली अम्बे वैली सिटी, सहारा इंडिया लेटेस्ट न्यूज़ 2023

Sahara Sebi Case Supreme Court : निवेशकों से भारी-भरकम राशि जुटाने के बाद सहारा इंडिया परिवार ने निवेशकों को तो राशि वापस नहीं कि वही जब बात सहारा सेबी खाते में पैसे जमा कराने की आ रही है तो उसपर भी सहारा ध्यान नहीं दे रहा है तभी अब सुप्रीम कोर्ट को सहारा के ड्रीम प्रोजेक्ट कहे जाने वाले अम्बे  वैली को नीलाम करना पड़ रहा है वहीं बहुत जल्द नीलामी की तैयारियां भी शुरू की जा सकती है। वही सहारा को एक बड़ा झटका दिया है क्योंकि सहारा इंडिया लगातार सहारा सेबी खाते में पैसा जमा नहीं करा रहा है जिसके कारण न्यायपालिका का मूड सहारा इंडिया के खिलाफ शख्त होता जा रहा है। 

क्या सुप्रीम कोर्ट बेचेगी अम्बे वैली : बिशेष्कारो की मानें तो सहारा इंडिया ने भारी धनराशि निवेशकों से इक्कठा कर इस ड्रीम प्रोजेक्ट के माध्यम से निवेश की थी वही सहारा इंडिया ने लगातार निवेशकों के साथ छल किया है। इस बात की खबर पूरे देश को है वही सहारा सेबी खाते में पैसा ना जमा कराना और समय और समय मांगना सहारा की एक अंदरूनी चाल को दिखाता है। जिसके कारण अब देश का सुप्रीम कोर्ट भी सहारा इंडिया परिवार के खिलाफ काफी सख्त दिखाई दे रहा है वही अब कोर्ट एमबी वैली का प्रश्न उठा चुका है तो माना यह जा रहा है कि बहुत जल्द एंबी वैली नीलाम हो सकती है। 

कैसे मिलेगा क्रेडिट कोआपरेटिव का भुगतान  

सहारा समूह के खिलाफ इस वक्त सुप्रीम कोर्ट में 2 मामलों पर विशेष चर्चा की जा रही है। जहां पर पहला मामला सहारा इंडिया रियल एस्टेट कॉरपोरेशन लिमिटेड का है जबकि दूसरा मामला निवेशकों की एक याचिका जो कि क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसाइटी की है उससे जुड़ा हुआ है। विवाद दोनों ही बराबर है। जहां पर सहारा इंडिया के निवेशकों का पैसा फंसा हुआ है। ऐसे में सुप्रीम कोर्ट की कार्रवाई देखना है कि क्या वह क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसाइटी के निवेशकों के साथ-साथ रियल स्टेट और हाउसिंग के निवेशकों को भी इंसाफ दिला सकता है। 

यह भी पढ़े : सहारा इंडिया के चैयरमेन की बढ़ी परेशानी सहारा सेबी केस की बड़ी खबर, सहारा इंडिया लेटेस्ट न्यूज़ 2023  

जानकारी के अनुसार जब सहारा सेबी मामला शुरू हुआ था तो सहारा इंडिया परिवार ने भी एक चतुराई दिखाते हुए निवेशकों के पैसे की पलटी मार क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसाइटी में पूरे पैसे को डायवर्ट कर दिया था जिस कारण से सहारा इंडिया को अपने निवेशक नहीं मिल रहे थे जिनका पैसा हाउसिंग और रियल स्टेट में फंसा हुआ है तभी "सेबी बार-बार जिक्र कर रहा था कि सहारा इंडिया के निवेशक का पता नहीं है" क्योंकि पूरा पैसा तो क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसाइटी में आ चुका था। अब क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसाइटी में सहारा इंडिया के निवेशकों का पैसा फस चुका है जिसको सहारा लौटा नहीं रहा है और देश की सुप्रीम कोर्ट में मामला फंसा हुआ है। 

जमीन बेच कर चुकाओ पैसा : प्रदर्शन कारी 

कई सालों से सहारा इंडिया के खिलाफ भारत के अलग-अलग राज्यों के अलग-अलग शहरों में प्रदर्शन देखने के लिए मिल रहे हैं। कहीं सहारा इंडिया का निवेशक रोड पर सरकार को कोस रहा है तो कहीं कोई कोर्ट को कोसता हुआ नजर आया है। सबका कहना है कि सहारा का पैसा चाहे कैसे भी दिलाओ परंतु जल्द दिलाओ। ऐसे में सहारा इंडिया परिवार के निवेशकों ने सरकार के खिलाफ बड़ी तैयारी करना शुरू कर दी है। जहां पर नोटा का बटन दबाएं जाने की बात कही जा रही है वहीं देश की न्यायपालिका पर भी सवाल उठना शुरू हो चुके हैं। इसलिए देश का न्यायपालिका जल्द इस मामले में एक बड़ी कार्रवाई करता हुआ दिखाई दे जिससे सहारा इंडिया के निवेशकों के साथ-साथ देश के गरीब पीढ़ी को भी इस मामले से छुटकारा मिल सके। 

यह भी पढ़े : सुब्रत रॉय सहारा को पनाह देते भारत के पीएम मोदी, सुब्रत रॉय सहारा के दोस्त पीएम मोदी की कहानी

दरअसल सहारा इंडिया की बंद चार दीवारीओं में उन गरीब निवेशकों का भी पैसा फंसा हुआ है जो दिन दिन की कमाई करते हैं जैसे की चाय का होटल चलाने वाले, मजदूर, छोटी दुकान वाले,  जैसे लोग को का पैसा छोटे छोटे अमाउंट में इकट्ठा हो रखा है जिसको सहारा इंडिया लौटा नहीं रहा है वही उन गरीब निवेशकों के पास इतनी ताकत भी नहीं है कि वह कानूनी कार्रवाई करके अपना पैसा वापस ले सके। इसलिए सुप्रीम कोर्ट इस नजरिया से भी इस मामले को देखते हुए जल्द मामले को सुलझाने का काम करें और निवेशकों को उनका पूरा पैसा पूरे हक के साथ वापस दिलाएं। 

Post a Comment

0 Comments

Contact Us Form

Name

Email *

Message *