Breaking

मंगलवार 04 2022

dussehra 2022 : जाने विजयदशमी पर क्यों पुरे दिन रहता है शुभ महूरत, पंचांग देखने की भी नहीं पड़ती है जरुरत

 

dussehra 2022 : जाने विजयदशमी पर क्यों पुरे दिन रहता है शुभ महूरत, पंचांग देखने की भी नहीं पड़ती है जरुरत
dussehra 2022 news : विजयदशमी(vijaydashmi 2022) के पावन पर्व को असत्य पर जीत का प्रतीक माना जाता है। शारदीय नवरात्र के दसवे दिन विजयदशमी मनाई जाती है। इस साल 5 अक्टूबर को विजयदशमी पड़ रही है। वहीं इसी दिन दशहरा का पर्व मनाया जाएगा। हिंदू रीति-रिवाजों के मुताबिक भगवान विष्णु के सातवें अवतार और अयोध्या के राजा राम आज के ही दिन रावण का विनाश किए थे। इसी दिन को दशहरा के तौर पर मनाया जाता है। वही आज के दिन आपको एवं आपके परिवार को दशहरा की हार्दिक शुभकामनाएं। 

इस बार विजयदशमी 5 अक्टूबर 2022 को पढ़ रही है वही इस दिन सूर्योदय से लेकर सूर्यास्त तक स्वयं सिद्ध मुहूर्त होता है। आज के दिन किसी भी शुभ कार्य के लिए पंचांग देखने की जरूरत नहीं होती है। अर्थात पूरे दिन शुभ मुहूर्त माना जाता है। वही इस दिन पंचांग की बिल्कुल भी आवश्यकता नहीं पड़ती है।

आसान शब्दों में जाने दशहरा की खासियत  

प्रत्येक व्यक्ति के अंदर से काम, क्रोध, लोभ, भय, चिंता, आलस्य, जैसे रावण बिराजमान रहते हैं वही इन सभी को समाप्त करने के लिए इस दिन को विशेष माना जाता है। बुराई पर अच्छाई की जीत के प्रतीक के रूप में विजयदशमी को मनाया जाता है। यदि आपको भी अपने जीवन में सफलता प्राप्त करनी है तो आप भी शमी वृक्ष का पूजन करें एवं शमी पर शाम के समय दीपक लगाएं। इसके अलावा श्याम के समय ही भगवान विष्णु का स्मरण भी करें : पंडित दधी महाराज महाकाल परीसर उज्जैन  

कोई टिप्पणी नहीं:

Contact Us Form

नाम

ईमेल *

संदेश *

लोकप्रिय पोस्ट