Breaking

रविवार 23 2022

diwali poojan mahurat : दिवाली पूजा बिधि शुभ महूरत की जानकारी यहाँ देखे, दिवाली २०२२ महूरत का समय

 

diwali shubh mahurat : रोशनी का त्योहार दिवाली (Diwali poojan) आ ही गया। वही दिवाली के आने से पहले से ही दिवाली को लेकर लोगो में उत्साह देखा जाता है वहीं यह त्यौहार पर कार्तिक कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि के दिन इस त्यौहार को मनाया जाता है। कई लोगों द्वारा महूरत (diwali poojan mahurat) की समय सारणी पूछी गई थी जिसको लेकर अब न्यूज़ दुनिया प्राइवेट लिमिटेड द्वारा आप लोगों को वितरित जानकारी प्रस्तुत करने हेतु शुभ महूरत एवं समय सारणी एवं विधि इस पोस्ट के द्वारा बताई गई है वही गोवर्धन पूजा को लेकर भी लेख पढ़े। 

ऐसे होगी धन की प्राप्ति 

महाकाल लोक परिसर के गुणवान आचार्य दाधी महाराज के अनुसार लक्ष्मी पूजन पर लक्ष्मी वर्धक यंत्र को भोजपत्र पर लाल कलम से लिख कर दिवाली के पूजन के समय कुमकुम, अक्षत, धूप, दीप से पूजा करके तिजोरी में रखें। वही पंडित जी द्वारा बताया गया है कि माता लक्ष्मी की विशेष कृपा आप पर होगी। 


यह रहेगा शुभ मुहूर्त

दिवाली 2022 इस बार 24/10/2022 यानी की कल है वही व्यापारिक प्रतिष्ठान महूरत की बात करें तो वह सुबह तड़के 11:49 से लेकर 12:44 तक रहने वाला है। वही दिन में यह मुहूर्त दोपहर 3:10 से लेकर 5:58 तक शुभ मुहूर्त बताया गया है वही लक्ष्मी पूजन का मुहूर्त की बात करें तो वह यह रहेगा। 

  1. स्थिर लग्न वृषभ श्याम 7:14 से लेकर 9:11 रात्रि तक
  2. स्थिर लग्न सिंह 01:42 से 03:57 मध्यरात्रि

इस दिन रहेगी गोवर्धन पूजा

पिछले काफी लंबे समय से दिवाली के अगले दिन ही गोवर्धन पूजा को माना जाता है परंतु सूर्यग्रहण के चक्कर में इस बार की गोवर्धन पूजा 25 अक्टूबर 2022 को मनाई जानी है। वहीं कार्तिक कृष्ण अमावस्या के दिन मंगलवार दिनांक 25 अक्टूबर 2022 को सूर्य ग्रहण होगा। इस ग्रहण का समय भारतीय समय अनुसार यह रहने वाला है। 

  • स्पर्श (प्रारंभ) 04:31 श्याम
  • मध्य 05:14
  • मोक्ष 05:57 श्याम

जानकारी के अनुसार ग्रहण यानी कि इस समय से सूतक 12 घंटे पहले लग जाता है। इसके साथ ही सूतक 25 अक्टूबर को प्रातः 4:31 पर लग जाएगा वही ग्रहण इन राशियों पर प्रभाव देगा वही ग्रहण से बचने के उपाय भी बताये गए है। 

  1. मेष सामान्य मध्यम प्रभाव
  2. मिथुन सामान्य माध्यम प्रभाव
  3. कन्या सामान्य मध्यम प्रभाव
  4. कुंभ सामान्य मध्यम प्रभाव
  5. ब्रष शुभ एवं सुखद 
  6. सिंह शुभ एवं सुखद 
  7. धनु शुभ एवं सुखद 
  8. मकर शुभ एवं सुखद 
  9. कर्क अशुभ  
  10. तुला अशुभ 
  11. वृश्चिक अशुभ 
  12. मीन अशुभ 

पंडित दधी महाराज द्वारा बताया गया कि यह ग्रहण स्वाति नक्षत्र एवं तुला राशि पर हो रहा है वही नक्षत्र राशि एवं अशुभ प्रभाव राशि वाले जातकों को ग्रहण देखना उपयुक्त नहीं है वही बीमार, रोगी व्यक्ति एवं गर्भवती महिलाएं ग्रहण को देखने में सावधानी बरतें। वही बाकी के लोगों को यह कार्य करना है। 

  • क्या करें भजन : जाप एवं मंत्र साधना
  • क्या नहीं करें : भोजन, शयन 
खाने वाले सामान में कुंभ तुलसी पत्र डालकर रखें : पंडित दधी महाराज,महाकाल लोक परिसर उज्जैन 

कोई टिप्पणी नहीं:

Contact Us Form

नाम

ईमेल *

संदेश *

लोकप्रिय पोस्ट