Breaking

शनिवार 24 2022

kanpur dead body case : कानपुर में लाश के साथ करीब ढेड़ साल से सो रहा था परिवार, अब हुआ यह खुलासा

 

Kanpur में लाश के साथ करीब ढेड़ साल से सो रहा था परिवार, अब हुआ यह खुलासा
डेस्क रिपोर्ट, कानपुर : मामला उत्तर प्रदेश के कानपुर से आया है। जहां पर एक परिवार के लोगों ने मृत व्यक्ति को जिंदा समझकर उसके साथ करीब डेढ़ साल तक सादा जीवन जिया है। जानकारी के अनुसार न उस मृत ब्यक्ति को जलाया एवं दफनाया भी नहीं गया। बल्कि पूरा परिवार उस ब्यक्ति के साथ करीब डेढ़ साल से सो रहा था। खबर का खुलासा तब हुआ जब आयकर विभाग की टीम उस व्यक्ति के घर पहुंची वहीं जांच के समय इस चीज का खुलासा हुआ। 

क्या था पूरा मामला

यह मामला कोरोना वायरस समय के दौरान का था। जिस समय भारी मात्रा में कोरोना वायरस भारत में अपने पैर पसार रहा था तभी विमलेश नाम के एक व्यक्ति जो की कानपूर का रहने वाला था उसकी मृत्यु हो गई थी। परिवार ने उसकी अंतिम संस्कार की तैयारी भी की थी परंतु जब उसको अंतिम संस्कार के लिए ले जाया जा रहा था तभी रास्ते में उसकी शरीर से कुछ हलचल हुई। हलचल होते ही परिवार ने पल्स रेट ऑक्सीमीटर के जरिए चेक की। जहां पर पल्स रेट मैं कुछ अंतर दिखा तो परिवार ने अंतिम संस्कार को कैंसिल कर दिया और डेड बॉडी को अपने घर पर रख दिया वहीं परिवार करीब 1 साल से उस बॉडी के साथ में रात दिन गुजार रहा है। यह कैसे हुआ यह किसी के भी समझ में नहीं आ रहा है ?

आयकर विभाग में काम करते थे विमलेश

जानकारी के अनुसार कानपुर के रावतपुर के कृष्णपुरी इलाके में विमलेश का परिवार रहता है। जानकारी के अनुसार उसके दो भाई हैं एवं उनकी पत्नियां बच्चे सहित मां-बाप उनके साथ रहा करते थे। यानी कि जिस घर में लाश को रखा गया था वहां पर करीब 10 लोग मौजूद हुआ करते थे परंतु किसी को भी यह अंदाजा नहीं था क्या कि वह जिसके साथ में रोज सो रहे हैं वह डेड बॉडी है। 

क्या शब् से नहीं आया करती थी बदबू 

ज्यादातर लोगों ने एक सवाल जरूर पूछा है कि क्या विमलेश के शरीर से बदबू नहीं आया करती थी तो उसका उत्तर यह है कि कानपुर के अस्पताल में जब विमलेश की बॉडी को ले जाया गया तो उसको मृत घोषित कर दिया गया। CMO डॉक्टर गौतम की टीम द्वारा इस मामले को संज्ञान में लेकर सभी जांच निकाली गई। जांच के माध्यम से पता चला कि विमलेश तो पहले से ही मर चुका है वही सवाल यह बन रहा था कि क्यों उसकी डेड बॉडी से बदबू नहीं आती थी जिस पर डॉ गौतम ने बताया "कि वह बेहद पतले हुआ करते थे वही हमेशा उनको ए.सी के अंतर्गत रखा जाता था जो बदबू ना आने का एक प्रमुख कारण है वही उनको रोज गीले कपडे से साफ़ भी किया जाता था"  

अभी इस मामले में जांच चल रही है जब भी कुछ खास निकल कर आएगा न्यूज़ दुनिया आपको सबसे पहले कवरेज देने में आगे दिखेगा। तो ऐसी और खबरों के लिए पढ़ते रहें हिंदी न्यूज वेबसाइट न्यूज़ दुनिया प्राइवेट लिमिटेड। 

Read More Latest News Updates : https://www.interestingadda.com

कोई टिप्पणी नहीं:

Contact Us Form

नाम

ईमेल *

संदेश *

लोकप्रिय पोस्ट