Breaking

मंगलवार 30 2022

Green Ganpati : आप भी अपने घर पर ग्रीन गणपति, पीओपी से बने गणपति का करें बहिष्कार

 

डेस्क रिपोर्ट, भक्ति : 31 अगस्त 2022 को गणेश चतुर्थी का त्योहार मनाया जाना है। गणेश चतुर्थी के त्योहार को बड़े ही धूमधाम से भारत में मनाया जाता है वही गुजरात सहित अन्य प्रदेशों में इस त्यौहार की मान्यता काफी ज्यादा मानी जाती है। तभी तो इतनी बड़ी-बड़ी शोभायात्रा इन प्रदेशों के जिलों से निकाली जाती है। आइए आज एक फिर रोचक चीज बताएंगे इस पोस्ट के द्वारा। 

गणेश चतुर्थी आते ही लोगों में उमंग की धारा शुरू हो जाती है। इस त्यौहार के प्रति लोगों के मन में गणेश जी का मानो जैसे बास हो जाता है वहीं कई लोग गणेश जी की मूर्ति खरीदने के लिए पीओपी से बनी मूर्तियों का इस्तेमाल करते हैं। जो कि पॉल्यूशन में ज्यादा मददगार होती है तभी तो गणेश चतुर्थी के जाने के बाद ही कई नदियों में भारी मात्रा में पीओपी मिलता हुआ दिखाई देता है। जिससे पानी के अंदर रह रहे जीव जंतुओं को बड़ा ही नुकसान पहुंचता है वही यह पीओपी से बने गणपति के कारण पानी भी दूषित होता है। 

इस बार कई प्रदेशो के कई जिलों में ग्रीन गणपति नाम से गणपति आए हैं यानी कि वह गणपति में कहीं भी पीओपी का इस्तेमाल नहीं किया गया है। आप भी अगर बाजार में गणपति भगवान की मूर्ति खरीदने जा रहे हैं तो आप भी इस चीज का ध्यान रखें कि आस्था हमेशा हमारे मन में बसती है। इसीलिए आप भी ग्रीन गणपति का इस्तेमाल करें जिससे ना तो किसी जीव जंतु को नुकसान हो और ना ही हमारी नदियों को क्योंकि भगवान ने कभी भी खुद के लिए लोगों और जीव जंतु  को नुकसान नहीं पहुंचाया है तो हम उनके खिलाफ जाकर जीव जंतुओं को कैसे नुकसान पहुंचा सकते हैं। 

कोई टिप्पणी नहीं:

सहारा इंडिया की घोटाले पर एडवोकेट अजय टंडन के साथ LIVE | sahara india news |

लोकप्रिय पोस्ट