Breaking

शुक्रवार 19 2022

MP Samachar : लापरवाही पर सरकार ने लिया कड़क एक्शन, 12 सरकारी कर्मचारी हुए निलंबित वही कई शिक्षकों के रुके बेतन

 

न्यूज़ रिपोर्ट, भोपाल : मध्यप्रदेश में अधिकारियों की लापरवाही सामने आई है। जिस पर सरकार ने कड़क रुख अपनाया है। जानकारी यह है कि गुना कलेक्ट्रेट के सनग्लीकरण में यह मामला आया है कि लापरवाही करने और परीक्षण में अनुसूचित रहने के बाद करीब 3 सरकारी शिक्षक और दो बाबुओं को निलंबित कर दिया गया है वहीं 12 शिक्षकों के वेतन को रोक दिया गया है। जानकारी के मुताबिक वंचित 21000 विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति मिलने तक सभी बीईओ का वेतन रोकने का फैसला सरकार द्वारा किया गया है। 

जानकारी यह है कि गुना में लंबे समय से कुछ शिक्षक अनुपस्थित भी रह रहे थे। जिनके नाम कुछ इस प्रकार है शिक्षक रामकृष्ण निर्वाचन शाखा के अखिलेश श्रीवास्तव। इन दोनों को भी निलंबित कर दिया गया है। इसके साथ ही लिपिक सोनू आर्य के खिलाफ DE  के आदेश दिए गए है। वही करीब 12 शिक्षकों के वेतन भी रोक दिए गए हैं। 

अभी हाल फिलहाल में मध्यप्रदेश के बाकी जिलों से भी कई मामले सरकार के पास पहुंचे थे जिसमें पहला मामला उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर से जुड़ा हुआ है। जहां पर मंदिर के पुजारी और अन्य लोग भारी मात्रा में पैसा लेकर वीआईपी दर्शन करा रहे थे। जब यह मामला सरकार के पास पहुंचा तो सरकार ने निरीक्षक प्रदीप रठा को निलंबित कर दिया। निरीक्षक प्रदीप लट्ठा को निलंबित अवधि का भुगतान प्राप्त करने के लिए पात्रा भी नहीं होगी वहीं निजी कंपनी के सुरक्षा गार्ड की सेवाएं भी समाप्त करने के निर्देश दिए गए हैं वही वोटर आईडी से जुड़े मामला भी सामने आया जहां पर उज्जैन कलेक्टर ने नगर निगम जोन में कार्यरत बीएलओ महेश मकवाना को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

लोकप्रिय पोस्ट