Breaking

शनिवार 13 2022

मोदी सरकार तक पहुंची सहारा निवेशकों की बात बित्त मंत्री रेबड़ी पर अटक गई कब सुलझेगा निवेशकों का मामला, Sahara India Latest News

 

डेस्क रिपोर्ट, सहारा सेबी बिबाद : सहारा इंडिया में फसा निवेशकों का पैसा मिलने का नाम नहीं ले रहा है। जहां पर एक तरफ लगातार निवेशक अपने पैसे की मांग कर रहे हैं वही लगातार सरकार के खिलाफ प्रदर्शन देखा जा रहा है। जानकारी के मुताबिक सहारा इंडिया परिवार में निवेशकों की गाढ़ी कमाई फसी हुई है जो कि मिलने का नाम नहीं ले रही है वहीं कंपनी के मालिक और चेयरमैन सुब्रत रॉय सहारा लगातार निवेशकों को समय-समय दे रहे हैं परंतु भुगतान देने का नाम नहीं ले रहे हैं। 

इधर से उधर पलटी खाता है कागज 

सहारा इंडिया के निवेशकों ने लगातार प्रदर्शन के जरिए यह दिखा दिया है कि अगर मोदी सरकार निवेशकों के साथ नहीं आएगी तो निवेशक अगले चुनावों में मोदी सरकार का विरोध करेंगे वहीं अब निवेशक नोटा की सरकार को चुनने के लिए जाएगा। अगर मोदी सरकार निवेशकों के मामले को नहीं सुलझाती है तो मोदी सरकार को बहुत कठिन परिणाम झेलने पड़ेंगे। देश हित की बात करने वाले नरेंद्र मोदी की सरकार आज कल कागज पलटी में लगी हुई है वही लोगों के तरफ तो मोदी सरकार का ध्यान भी नहीं है। 

जानकारी यह मिली है सहारा निवेशकों का मामला सबसे पहले प्रधानमंत्री कार्यालय तक पहुंचता है। प्रधानमंत्री कार्यालय पहुंचने के बाद इस कागज की पलटी कर वित्त मंत्रालय तक कागज को पहुंचाया जाता है फिर वित्त मंत्रालय से इस कागज को ट्रांसफर कर सीधे सहकारिता मंत्रालय के पास पहुंचा दिया जाता है यानी कि मोदी सरकार पूरी कागज पलटी का काम कर रही है और कार्य प्रतिशत मोदी सरकार का 0% बना हुआ है। 

अपनी सोशल मीडिया DP पर क्या तिरंगा लगाए निवेशक 

सहारा इंडिया निवेशकों का मामला इतना गहरा हो चुका है कि प्रधानमंत्री मोदी ने लोगों से यह विनती की थी कि लोग अपनी प्रोफाइल डीपी पर राष्ट्रीय ध्वज का फोटो लगाएं परंतु सहारा इंडिया के निवेशक लगातार यह कह रहे हैं कि हम लोग क्यों प्रधानमंत्री की सुनते हैअपने फोटो पर राष्ट्रीय ध्वज क्या लगाए जबकि सहारा इंडिया का मामला इतना बड़ा मामला है जहां पर लाखो हमारे साथी लगातार हम लोग खो रहे हैं परंतु अब भी सरकार जाग नहीं रही है। इसलिए जब हमारे नेता ही हमारी नहीं सुन रहे है तो हम नेताओं की क्यों सुनो। 

रेवड़ी पर अटका पॉलिटिक्स 
भारत का पॉलिटिक्स अब मानो कहीं पर निर्धारण हो गया है। जहां पर अब नेतागिरी रेवड़ी के मामले में होने लगी है यानी कि निवेशकों का मामला कोई मामला ही नहीं है। जब भी यह मामला सरकार तक पहुंचता है सरकार इस मामले को सहारा सेबी का मुद्दा देकर बंद कर देती है जबकि ज्यादातर लोगों का पैसा सहारा की क्रेडिट सोसाइटी और क्यू शॉप में फंसा हुआ है परंतु मोदी सरकार सुब्रत रॉय जैसे इस मामले से कोई वास्ता लेना ही नहीं चाहती है। इस देश में अमीर और अमीर होता जा रहा है और गरीब लगातार गरीब होता जा रहा है क्योंकि भारत के लोग ऐसी सरकार चुनते हैं जो भारत की आधीन ही नहीं चलती है। इसलिए सरकार कोई भी आ जाए गरीब हमेशा गरीब रहने वाला है। 

कोई टिप्पणी नहीं:

सहारा इंडिया की घोटाले पर एडवोकेट अजय टंडन के साथ LIVE | sahara india news |

लोकप्रिय पोस्ट