Months format

Show More Text

Load More

Related Posts Widget

Article Navigation

Contact Us Form

मंदसौर से शुरू हुआ सहारा इंडिया के खिलाफ मध्यप्रदेश में प्रदर्शन वीरेंद्र सिंह सोलंकी कर रहे नेतृत्व,Sahara India Latest News

 

डेस्क रिपोर्ट, मंदसौर : गरीब लोगों ने अपने जीवन भर का पैसा एक सरकारी लाइसेंस प्राप्त प्राइवेट कंपनी में फंसा दिया। यह कंपनी और कोई नहीं इस देश का सहारा इंडिया परिवार है। सरकारी लाइसेंस प्राप्त कंपनी पर सरकार ने इतना भरोसा जता दिया कि लोगों ने अपनी जिंदगी भर की पूंजी इस कंपनी में फसा दी। अब कंपनी उस पैसे को वापस नहीं कर रही है और निवेशकों को लगातार समय और समय दिया जा रहा है। 

सहारा इंडिया में मध्य प्रदेश के कई निवेशकों के पैसे सहारा में फंसे हुए हैं। सरकार तक लगातार इस बात की खबर लगातार पहुंच रही है कि लोगों का पैसा सहारा इंडिया नामक कंपनी में फंसा हुआ है। प्रदेश की सरकार और मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार लगातार इस मुद्दे को छूने में नाकाम दिखाई दी है। जिसके खिलाफ निवेशक सड़कों पर है। निवेशकों का आरोप है कि इतनी एफ आई आर दर्ज कराने के बाद भी उच्च अधिकारी कार्रवाई नहीं करते हैं। अगर वह लोगों का पैसा नहीं चला सके तो ऐसे अधिकारियों और सरकार का क्या काम। क्यों वह लोग फोकट की सैलरी लेते है ?

शिवराज सिंह के खेमे के कई लोगों से कई बार सहारा इंडिया के मुद्दे को लेकर निवेशकों की वार्तालाप भी हुई है परंतु निवेशकों के लिए कोई भी कार्रवाई नहीं की जा सकी है। जानकारी के मुताबिक सहारा इंडिया के खिलाफ ऑल इंडिया संघर्ष न्याय मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष श्री वीरेंद्र सिंह सोलंकी के नेतृत्व में आज मंदसौर में सहारा इंडिया का निवेशक सड़कों की राह पर है और सरकार और प्रशासन के खिलाफ अपने भुगतान की मांग कर रहा है। 

सहारा इंडिया में फंसी निवेशक की गाढ़ी कमाई जल्द उसको वापस मिलना चाहिए। मध्य प्रदेश के शिवपुरी, ग्वालियर अंचल एवं भोपाल, सतना, रीवा, जबलपुर, मंदसौर,मुरैना,सबलगढ़,कैलारस सहित रतलाम,मदसौर सहित अन्य जिलों में सहारा इंडिया के निवेशकों के कई पैसे फंसे हुए हैं वह जल्द से जल्द निवेशकों को मिलने चाहिए वरना निवेशक अब आने वाले समय में ग्वालियर आँचल सहित भोपाल को घेरने की तैयारी करेगा : नीरज कुमार शर्मा, महा सचिव, आल इंडिया संघर्ष न्याय मोर्चा   

No comments:

Lorem ipsum, or lipsum as it is sometimes known, is dummy text used in laying out print, graphic or web designs.