Breaking

शुक्रवार 22 2022

draupadi murmu : एमपी में 19 विधायकों ने मुर्मू के पक्ष में क्रॉस वोटिंग की

 

नई दिल्ली : राष्ट्रपति चुनाव में विपक्ष को बड़ी हार तो पहले से ही लगने वाली थी। इसका अंदाजा तभी हो चुका था। इतना ही नहीं, विपक्षी दल 2024 के लोकसभा चुनाव के पहले एकजुटता की हवा भर रहा था जो हवा भरी जा रही थी वह पूरी तरीके से अब कहीं पिचक चुकी है। वैसे विपक्षी एकजुटता कहां है ?

वोटिंग से पहले ही इसकी तो हवा निकल गई। जब बीजेडी, जेडीएस, बाईएसआर, कांग्रेस जैसी कई गैर एनडीए दल द्रौपदी मुर्मू के समर्थन में आ गए। लेकिन बचे  विपक्षी दलों में जिस पैमाने पर क्रॉस वोटिंग हुई वह हौसला तोड़े जाने लगा परंतु गठबंधन की बात करें तो जब खुद का घर सही सलामत रहे तभी दुसरो को सलाह परोसी जानी चाहिए। 

अगर बात द्रोपति मुर्मू की करें तो सांसद विधायकों ने कुल 2824 वोट दिए हैं जिनका कुल मूल्य 6,758,03 रहा है वहीं विपक्ष के संयुक्त उम्मीदवार यशवंत सिन्हा को 1,877 वोट मिले है। जिनका मूल्य करीब 380177 रहा है। द्रोपति मुर्मू 64% वोट पाने में कामयाब रहीं वहीं सिन्हा को सिर्फ और सिर्फ 36% मतदान मिला है। 

अपने पक्ष में समी करण ना देखते हुए यशवंत सिन्हा ने सांसद और विधायकों से कहा कि अंतरात्मा की आवाज सुनने की अपील में कर रहा हूं। जहां पर राष्ट्रपति चुनाव में समी करण कही नहीं होती। यानी क्रॉस वोटिंग को लेकर कोई कार्यवाही नहीं हो सकती। लिहाजा अंतरात्मा की आवाज सुनना बहुत आसान होता है। लेकिन सिन्हा शायद अपने समर्थक पार्टियों के सांसद विधायक की अंतरात्मा की आवाज सुन पाने में कहीं नाकाम रहे। जिसके कारण 18 राज्यों के 143 सांसदों एवं विधायकों ने क्रॉस वोटिंग की। जिसके माध्यम से 126 विधायक और 17 सांसद मौजूद रहे। 

भाजपा ने द्रौपदी मुर्मू का चेहरा अपनाया था। जहां पर वह काफी हद तक सफलतापूर्वक रहा है वहीं आसाम में सबसे ज्यादा 22 विधायकों ने क्रॉस वोटिंग की।  जहां पर दूसरे नंबर पर मध्य प्रदेश रहा जहां पर कांग्रेस के पास आदिवासी विधायकों की अच्छी खासी तादाद थी वही एमपी में 19 विधायकों ने मुर्मू के पक्ष में क्रॉस वोटिंग की। 

कोई टिप्पणी नहीं:

सहारा इंडिया की घोटाले पर एडवोकेट अजय टंडन के साथ LIVE | sahara india news |

लोकप्रिय पोस्ट