Breaking

शनिवार 16 2022

GST On Milk Products : 18 जुलाई से इन चीजों पर लगेगा जीएसटी वित्त मंत्रालय ने जारी किया सर्कुलर, यह चीजों होंगी महंगी और यह सस्ती

 

GST On Milk Products : वित्त मंत्रालय के ताजा सर्कुलर में यह साफ़ तरीके से स्पष्ट हो गया है कि अब भारत में नए संस्थानों के तहत जीएसटी लगाने का उत्पाद जारी है। जानकारी के अनुसार वित्त मंत्रालय से जारी हुए सर्कुलर में यह साफ़ तरीके से देखा गया कि बटर चीज एवं दूध के प्रोडक्ट सहित अन्य प्रोडक्ट पर जीएसटी अब लगाया जाएगा वही रूम सर्विस एवं अन्य चीजों पर भी जीएसटी को लेकर अधिक चर्चाएं हुई जिसके तहत अब कुछ चीजें महंगी होने वाली है वही कुछ चीजों पर जीएसटी की रेट को घटाया जाएगा तो आइए जानते हैं कौन सी चीजें महंगी होने जा रही है और कौन सी सस्ती। 

ताजा सर्कुलर में साफ़ तरीके से देखा गया कि बटर, चीज, पनीर एवं दूध के बने उत्पादों को लेकर वित्त मंत्रालय ने यह जारी कर दिया है कि अब इन चीजों पर जीएसटी कायम रहेगा, वही कृषि उत्पाद जैसे कि पैक्ट किया गेहू, पिसा हुआ आटा मांस मछली (जो कि फ्रोजन को छोड़कर होने वाली है) उन पर भी अब टैक्स को बढ़ाया जाएगा। फिलहाल ब्रांडेड प्रोडक्ट्स पर 5% जीएसटी लगता था वहीं पर दूध  प्रोडक्टों पर अभी तक कोई भी जीएसटी नहीं लगाया जाता था परंतु अब नए नियम  के मुताबिक उन पर भी जीएसटी कायम रखा गया है। आइये आपको बताते है की 18 जुलाई से कौन सी चीजें महंगी होने वाली है। 

इन चीजों के बढे दाम  

  1. टेट्रा पैक वाले लस्सी, मिल्क, वटर, पैक दही यह सभी अब महंगी होने वाले हैं जहां पर 18 जुलाई से 5 पर्सेंट जीएसटी कायम रखा जाएगा। 
  2. चेक बुक जारी करने के लिए बैंक अब 18 फीसदी Gst चार्ज करेगा 
  3. एटलस अवं मेप लेने के लिए अलग क्राइटेरिया बनाया गया है जिसके तहत अब आपको 12 फीसदी की दर से पैसा देना पड़ेगा 
  4. अस्पताल में अगर आप कमरा लेते है वो भी बिना आईसीऊ वाला तो आपको 5 फीसदी जीएसटी देना पड़ेगा 
  5. होटल के 1000 रूपये से काम के रूम पर अब आपको 12 फीसदी जीएसटी देना पड़ेगा 
  6. ब्लेड, पेंसिल, शापर्नर सहित अन्य स्टेशनरी उद्पाद पर पहले आपको 12 फीसदी टैक्स देना पड़ता था जो अब बढाकर 18 % कर दिया है   

यह चीजे होगी सस्ती 
    1. 18 जुलाई से अगर आप रोपवे के जरिये सामान लाते है तो वह आपको सस्ता पड़ेगा जिसपर पहले 18 फीसदी Gst लगता था जो अब घटाकर 5 फीसदी कर दिया है 
    2. फ्रेक्चर  उपकरण शरीर से संबंधित उपकरणों पर अब 12 फीसदी से घटाकर 5 फीसदी Gst  हो गया है 
    3. माल धुलाई वाले ऑपरेटर के किराये में जीएसटी घटाकर 18 प्रतिशत से 10 प्रतिशत कर दिया है 
    4. डिफेंस फाॅर्स के इम्पोर्ट वाली चीजों पर अब IGST नहीं लगाया जायेगा   <
      /li>


          कोई टिप्पणी नहीं:

          लोकप्रिय पोस्ट