Breaking

गुरुवार 02 2022

सुब्रत रॉय सहारा सच में हुए गरीब की रचा जा रहा कोई नया प्लान ,सहारा इंडिया लेटेस्ट न्यूज़ 2022 टुडे



 न्यूज़ रिपोर्ट ,लखनऊ : 10 जून 1948 को बिहार के अररिया जिले में जन्मे सुब्रत रॉय सहारा जिनका नाम गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड समेत देश के  बिजनिस मेंस की लिस्ट में शुमार था क्या आज एक गरीब बनकर रह गए है। अम्बे वैली और सहारा सिटी लखनऊ के मालिक सुब्रत रॉय सहारा कही अपने निवेशकों को बरगलाने के लिए कोई नया ढोंग तो नहीं रच रहे है। सुब्रत रॉय सहारा के आधीन आने वाली 2,82,224 करोड़ की अचल संपत्ति कहा गई। आलीशान रहने के लिए पैसा खर्च हो सकता है पर निवेशकों के भुगतान देने के लिए पैसा नहीं है।   

बंगाली है सुब्रत रॉय सहारा 

भारत के हितयास में सुब्रत रॉय वो नाम है जिसने गरीब को कमाने के लिए दो पैसे का सहारा अपनी सहारा इंडिया कंपनी के माध्यम से दिया था परंतु सुब्रत रॉय सहारा ने अपने कंपनी के एजेंटो और निवेशकों में इस तरह लात मारी है की अब न तो निवेशक खुद को संभाल पा रहा है न ही एजेंट अपने आप को बचा पा रहा है। सुब्रत रॉय सहारा ने भारत में चोरी करते हुए न अपनी सोची न अपने सहारा इंडिया परिवार की वही सुब्रत रॉय के गलत कदम की बजह से आज उन्हें यह दिन देखने पड़ रहे है।   

लखनऊ में हुए प्रदर्शन से डरा सहारा ग्रुप 

सहारा इंडिया के खिलाफ आल इंडिया संघर्ष न्याय मोर्चा के बैनर टेल दिनांक 28 मई को सहारा शहर गोमती नगर लखनऊ पर हुए निवेशकों के प्रदर्शन से सहारा इंडिया ग्रुप काफी चिंतित दिखाई पड़ा है जानकरी के मुताबिक लखनऊ के प्रदर्शन में देश के हर कोने से लोग लखनऊ अपने भुगतान की मांग के लिए पहुंचे थे। लखनऊ पहुंचे अन्य अन्य प्रदेश के लोगो में उत्तर प्रदेश के साथी समेत मध्यप्रदेश ,बिहार ,राजस्थान ,बंगाल ,ओडिशा ,झारखण्ड समेत अन्य प्रदेशो के लोग भी लखनऊ पहुंचे थे जहा पर सहारा इंडिया और उसके चैयरमेन सुब्रत रॉय सहारा के खिलाफ प्रदर्शन किया गया वही करीब 3 दिनों से सहारा शहर के बचाब के लिए अंधेर नगरी चौपट राजा वाली पुलिस बल भी सुब्रत रॉय को बचाने के लिए तैनात थी।    

सुब्रत रॉय ढोंग रच रहे है 

लखनऊ प्रदर्शन के बाद सहारा प्रमुख सुब्रत रॉय ने अपना पत्र जारी करते हुए निवेशकों से शांति पुर्बक रहने के लिए कहा जो निवेशकों को बील्कुल भी रास नहीं आया वही निवेशकों को मुर्ख बनाने के लिए सुब्रत रॉय ने अपने लेटर में एक स्पेशल पॉइंट लिखते हुए बताया की " सहारा इंडिया का भुगतान करने के लिए मेरे पास कुछ भी नहीं बावः है वही मेरे मेरी बीबी और बच्चो के पास केवल 3 कमरों का फ्लैट बचा है " सहारा प्रमुख की इन बातो से निवेशकों के अंदर सहारा के खिलाफ लगी आग ने एक घी की तरह काम किया है जिससे अब निवेशक एक और बड़े प्रदर्शन के लिए तैयार है वही सुब्रत रॉय सहारा को फिर जेल पहुचानी की जिम्मेदारी हर वो पीड़ित निवेशक ले रहे है जिसका पैसा इस लुटेरी कंपनी सहारा इंडिया में फसा हुआ है।  


आँख बंद कर तमाशा देख रहा सुप्रीम कोर्ट 

सहारा इंडिया की इन चलो को सुप्रीम कोर्ट क्यों नहीं देख पा रहा है वह एक चिंतन करने वाली बात है क्योकि अगर गरीब और पीड़ित के खिलाफ कार्यबाही करनी हो तो यह कोर्ट झट पट कानून की किताब खोलकर बैठ जाता है परंतु इस लुटेरी कंपनी के लूट मचाने वाले डायरेक्टर समेत सुब्रत रॉय सहारा की गिरफ़्तारी कब होगी और कब जाकर निवेशकों को उनका भुगतान मिलेगा यह अभी तक न हम जानते है और न ही  न्यायपालिका। वही सुप्रीम कोर्ट की ऐसी कार्यबाही देश में बिगड़ती न्यायपालिका को दर्शाती है की कैसे सहारा इंडिया के लीगल बकीलो के जरिये सुप्रीम कोर्ट मे भी घुस का काम चल रहा है।  


निवेशकों को सरकार हलके में ले रही है 

सहारा इंडिया के खिलाफ मोर्चा खोले आल इंडिया संघर्ष न्याय मोर्चा का कहना है की सहारा इंडिया से हमारा भुगता दिलाने पर सरकार एक परसेंट भी गंभीर नही है वही सरकार हम गरीबो को हलके में ले रही है वही देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास इतनी शिकायत भेज चुके है परंतु अभी तक कुछ भी कार्यबाही नहीं की गई है इसका मतलब है की सरकर भी घुस लेकर अपना काम चला रही है वही सांसदों की जेब भी मोटे-मोटे गाँधी जी वाले नोटों से भरी जा रही है। 


अपने आप को गरीब बताने वाले सुब्रत रहे हैं अमीर

सहारा इंडिया के प्रमुख सुब्रत रॉय सहारा ने अपना पत्र जारी करते हुए दर्शाया था कि मेरे पास अब केवल 15 से 16 करोड़ की जमीन बची हुई है वहीं अगर डाटा चेक किया जाए तो विकिपीडिया के अनुसार सुब्रत रॉय सहारा पर करीबन 300 हजार करोड़ की अचल संपत्ति है परंतु मुद्दा यह है कि सुब्रत रॉय सहारा अपने निवेशकों को एक फूटी कौड़ी देना नहीं चाहते हैं वही निवेशकों को बरगलाने और उन को कंफ्यूज करने के लिए सुब्रत रॉय यह चाल चल रहे हैं जिसके माध्यम से निवेशक उनके खिलाफ f.i.r. समेत वोट में ना जाए वही निवेशकों से न्यूज़ दुनिया की मीडिया टीम के नाच आएगी कि आप लोग जितना ज्यादा f.i.r. एवं वोट में प्रक्रिया को आगे बढ़ाएंगे उतनी ही शीघ्र आप का भुगतान आपको मिल सकेगा क्योंकि सहारा इंडिया तो अपनी तरफ से भुगतान करना ही नहीं चाहती है वह सिर्फ एक दिखावा रच रही है जो कि आने वाले दिनों में सुब्रत रॉय को तिहाड़ जेल पहुंचाएगा ।


सुब्रत रॉय सहारा ने बताया था कि उनके पास में कोई अचल संपत्ति नहीं है वहीं वे निवेशकों का भुगतान नहीं कर सकते हैं परंतु एक मीडिया रिपोर्ट की मानें तो सुब्रत रॉय सहारा ने लखनऊ में पदस्थ एक पुलिस ऑफिसर को मर्सिडीज गिफ्ट की थी वही मर्सिडीज की कीमत करीब ₹4000000 के पार जाती है वही यह पैसा सुब्रत रॉय सहारा पर कहां से आ जाता है अगर सुब्रत रॉय पर 15 से 16 करोड़ की संपत्ति है तो वे उसे भी भेज दें और निवेशकों का 15 से 16 लाख का भुगतान करते हैं परंतु सुब्रत रॉय सहारा के इस ढोंग से यह सिद्ध होता दिखाई दे रहा है की उनकी नियत में खोट हैं।

जंतर मंतर पर निवेशकों का अगला प्रदर्शन

सहारा इंडिया के खिलाफ बिगुल खोलने के लिए अब निवेशक जंतर मंतर पर पहुंचने वाले हैं जहां पर ऑल इंडिया संघर्ष न्याय मोर्चा के बैनर तले दिल्ली के जंतर मंतर पर सहारा ग्रुप समेत सरकार के खिलाफ मोर्चा खोला जाना है वही उस प्रदर्शन में करीबन 100000 व्यक्तियों की मौजूदगी दर्ज की जाएगी क्योंकि पीड़ित निवेशक अब अपने भुगतान के लिए लगातार सड़कों पर निकल रहा है और इस मोदी सरकार को भी यह बताना है कि हमें हमारा पैसा हर हाल में सहारा इंडिया जैसी लुटेरी कंपनी से वापस चाहिए ।






कोई टिप्पणी नहीं:

लोकप्रिय पोस्ट