Breaking

सोमवार 25 2022

Sahara India Fraud Scam : क्या आपको याद है वो दिन जब 130 ट्रक भरकर कागज लेकर SEBI पंहुचा था सहारा ग्रुप


न्यूज़ रिपोर्ट,नई दिल्ली : क्या आपको अभी भी वह दिन याद है जब 130 ट्रक भरकर कागज लेकर से भी ऑफिस पहुंचा था सहारा इंडिया परिवार। जानकारी के अनुसार सुप्रीम कोर्ट में चल रहे सहारा सेबी विवाद के बाद में सुप्रीम कोर्ट ने एक आदेश पारित करते हुए सहारा इंडिया को अपने सभी कागजों को सेवी ऑफिस भिजवा ना था आइडेंटिफिकेशन के लिए तो सहारा ग्रुप ने करीब 130 ट्रक भरकर डॉक्यूमेंट सेवी की ऑफिस भिजवा दिए थे और जब यह बात सोशल मीडिया पर छाई थी तो सभी जगह सहारा इंडिया और सीधी के बीच के विवाद की बातें चालू होने लगी थी लेकिन वह करीब 8 साल से 10 साल पहले की बात थी परंतु आज की स्थिति में भी सहारा इंडिया से पीड़ित निवेशक और एजेंट आज भी जूझ रहा है वही ना पहले भुगतान मिल पा रहा था और ना आज मिल पा रहा है वहीं सुप्रीम कोर्ट भी इस मामले में कितना और संज्ञान लेगा और कब इन निवेशकों का भुगतान करआएगा।

यह भी पढ़े : Sahara India Fraud Case : कोर्ट ने दिया 7 प्रतिशत ब्याज के साथ भुगतान करने का आदेश, सहारा इंडिया की ताजा खबरे

एक छोटे व्यवसाय से कितना बड़ा परिवार बनाने में सहयोग करने वाले निवेशक और एजेंट को आज की वर्तमान स्थिति में सहारा इंडिया मैं लगन से काम करने पर क्या मिल रहा है उस एजेंट को न पैसा मिल पा रहा है और ना ही इज्जत मिल पा रही है। सहारा इंडिया सेबी के विवाद पर कई स्टडी चल रही हैं परंतु यह बात सहारा इंडिया भी कहता है कि सहारा इंडिया में पैसा जमा करने वाले निवेशकों में सबसे ज्यादा हाथ ठेला और गरीब घर के लोगों का पैसा था जो अब सहारा इंडिया खा कर बैठ गया है वही ना तो ब्याज के साथ वापस करने की बात कह रहा है और ना ही वापस कर रहा है और आने वाले समय में वापस करना भी नहीं चाहता है जो सुब्रत रॉय सहारा सहारा इंडिया के निवेशकों और एजेंटों को अमीर बनाने की बात करते थे वह आज कहां है और क्यों इन निवेशकों की बात को अनसुना कर रहे हैं और क्यों भुगतान नहीं दे रहे हैं पूछता है भारत कि कब इन गरीब निवेशकों का भुगतान किया जाएगा वही देश में मौजूद मोदी सरकार करीबन 6 साल से भारत में अपना कब्जा बनाई हुई है परंतु आज तक मोदी जी ने सहारा इंडिया के निवेशकों की बात पटल पर नहीं रखी है जिसकी वजह से करीब 5 फीसदी लोग जो भाजपा के कट्टर सपोर्टर माने जाते थे वह आज भाजपा से अलग हो गए हैं जिस का मेन कारण है सहारा इंडिया का भुगतान ना करना और उसके ऊपर मोदी सरकार का कोई कड़ा रुख अपनाना वही जब कोई सहारा इंडिया का पीड़ित भाजपा के किसी भी नेता को कॉल कर न्याय दिलाने की बात करता है तो भाजपा के यह नामचीन नेता उन निवेशकों से कहते हैं की आप लोग प्राइवेट कंपनियों में अपना पैसा क्यों जमा करते हो तो उन नेताओं से न्यूज़ दुनिया की पूरी टीम उन निवेशकों की तरफ से यह कहना चाहेगी कि इन प्राइवेट कंपनियों को सरकार क्यों लाइसेंस देती है जब भुगतान नहीं किया जा सकता है और सहारा सेबी विवाद भी जो हुआ है उस पर सरकार की एक बहुत बड़ी गलती भी है इसलिए यह नाम के नेता सहारा इंडिया के निवेशकों पर आरोप लगाने से पहले 10 बार सोच लें वह आने वाले समय में सहारा इंडिया का पीड़ित नोटा का बटन दबाएगा क्योंकि भारत में जो राजनीति चल रही है वह एक तरफा राजनीति चल रही है जिसमें ना निवेशक को ध्यान में रखा जा रहा है और ना ही उसके पैसे का ध्यान रखा जा रहा है तो ऐसी राजनीति को भारत में लाने से क्या फायदा ।

यह भी पढ़े : सुब्रत रॉय पर कब तक चलेगा शिवराज मामा का बुलडोजर ,MP के IG ,DIG ,SP जबाब दे

मध्यप्रदेश में भी लगातार हो रहे हालत खराब

मध्यप्रदेश में सहारा इंडिया के खिलाफ करीबन 200 से ज्यादा f.i.r. अभी तक कर चुकी है परंतु सरकारी तंत्र द्वारा अभी तक इस पर कोई भी दबाव नहीं बनाया गया वहीं प्रदेश के मुख्यमंत्री जो अपने आप को मामा का नाम देते हैं उन्होंने भी आज तक सहारा इंडिया के निवेशकों के लिए कुछ भी नहीं कर पाया शिवराज मामा से न्यूज़ दुनिया की टीम कहना चाहेगी की बड़ी-बड़ी बातों से कुछ नहीं होता है काम भी जरूरी है वही शिवराज मामा की सरकार जल्द से जल्द इन निवेशकों को भुगतान दिलाएं और अपने सभी पुलिस के अधिकारियों को सूचित करें कि इन एफ आई आर ओ पर जल्द से जल्द कड़ी कार्रवाई हो और इन गरीब निवेशकों को उनका भुगतान दिया जाए।


चींटी के कदम रख रहा माननीय सुप्रीम कोर्ट

सहारा इंडिया सेबी का विवाद करीब 10 साल से ऊपर निकल चला है परंतु अभी तक कुछ भी निकल कर साफ नहीं हो पाया है वही सहारा इंडिया और सेबी के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट कब कड़ी कार्रवाई करेगा और निवेशकों के पक्ष में कब अपना आदेश सुनाएगा पूछता है भारत

कोई टिप्पणी नहीं:

News Duniya Neeraj Sharma Live Coverages

लोकप्रिय पोस्ट