Breaking

गुरुवार 03 2022

School reopening news : केंद्र सरकार का बयान ,स्कूलों पर फैसला ले राज्य सरकार ,यह रहेगा पैटर्न

डेस्क रिपोर्ट ,दिल्ली :- शिक्षकों(Teachers) और अन्य स्टाफ का बड़े पैमाने पर टीकाकरण9vaccination) पूरा होने और कोरोना(covid 19) की तीसरी लहर में आ रही गिरावट को देखते हुए केंद्र(central goverment) ने राज्यों से स्कूल खोलने पर फैसला लेने को कहा है। शिक्षा मंत्रालय की संयुक्त सचिव स्वीटी चांगसान ने कहा कि राज्यों के साथ विचार-विमर्श के बाद इस सिलसिले में पहले ही दिशा निर्देश में संशोधन किया जा चुका है। नीति आयोग के members और टीकाकरण पर टास्कफोर्स के प्रमुख डाक्टर वीके पाल ने कहा कि केंद्र सिर्फ यह चाहता है कि स्कूल खुलने की स्थिति में कोरोना प्रोटोकाल का पालन सुनिश्चित किया जाना चाहिए।

यह भी पढ़े :- खेत से लौटकर घर दंपती ,उसके बाद पत्नी ने लगा ली फांसी 

शिक्षा मंत्रालय की संयुक्त सचिव स्वीटी चांगसान ने कहा कि राज्यों के साथ विचार-विमर्श के बाद इस सिलसिले में पहले ही दिशा निर्देश में संशोधन किया जा चुका है। वहीं, नीति आयोग के सदस्य और टीकाकरण पर टास्कफोर्स के प्रमुख डाक्टर वीके पाल ने कहा कि केंद्र सिर्फ यह चाहता है कि स्कूल खुलने की स्थिति में कोरोना प्रोटोकाल का पालन सुनिश्चित किया जाना चाहिए। शिक्षकों और अन्य स्टाफ का बड़े पैमाने पर टीकाकरण पूरा होने और कोरोना की तीसरी लहर में आ रही गिरावट को देखते हुए केंद्र ने राज्यों से स्कूल खोलने पर फैसला लेने को कहा है।

यह भी पढ़े :-Sahara India : आम आदमी पार्टी राज्य सभा सांसद संजय सिंह ने सहारा इंडिया के निवेशकों को भुगतान का भरोसा दिलाया 

यह है पेरेंट्स की राय 


अब राज्य सरकार और स्थानीय प्रशासन को इस संबंध में फैसला लेने की छूट दे दी गई है। उन्होंने साफ किया कि नई गाइडलाइंस के अनुसार स्कूल खोलने का फैसला लेने के लिए राज्य सरकार व स्थानीय प्रशासन स्वतंत्र हैं। स्वीटी चांगसान के अनुसार देश में स्कूल के शिक्षकों और अन्य स्टाफ के 95 फीसद से अधिक का संपूर्ण टीकाकरण हो चुका है। उनके अनुसार राज्यों के साथ विचार-विमर्श के बाद जारी नई गाइडलाइंस में स्कूल में छात्रों की फिजिकल उपस्थिति के लिए अभिभावकों की सहमति की अनिवार्यता को हटा दिया गया है। 

 यह भी पढ़े :-Shivpuri News : गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा कल शिवपुरी आएंगे 

सफल टीकाकरण होने के बाद खुल सकते है स्कूल 

उन्होंने कहा कि अब स्कूल खोलना संभव है और फिजिकल क्लास भी संभव है। उनके अनुसार देश के 265 जिलों में कोरोना संक्रमण की दर पांच फीसद से नीचे आ गई है, इन जिलों में स्कूलों के साथ-साथ अन्य गतिविधियों की पूरी इजाजत दी जा सकती है।

 School  खोले जाने की जरूरत पर बल देते हुए डाक्टर वीके पाल ने कहा कि कोरोना के कारण बच्चों की पढ़ाई का बहुत नुकसान हो चुका है। यह पूरे देश के लिए चिंता का विषय है। उन्होंने कहा कि टीकाकरण के बिना स्कूलों को खोलना पहले संभव नहीं था, लेकिन अब शिक्षकों व स्टाफ में अधिकांश के टीकाकरण होने के कारण स्कूलों को खोला जा सकता है।


कोई टिप्पणी नहीं:

लोकप्रिय पोस्ट