Breaking

शनिवार 19 2022

मध्य प्रदेश बोर्ड ने बदला पढाई का पैटर्न ,यह रहेगा नया पैटर्न ,जाने अधिक

मध्य प्रदेश के छात्रों एवं छात्राओं के लिए बहुत ही महत्ब्पूर्ण खबर अब बदल चूका है 10 बी और 12 बी का पैटर्न ,यह रहेगा नया पैटर्न 


डेस्क रिपोर्ट ,भोपाल :- मध्य प्रदेश बोर्ड(Mp Boards) ने पहली बार 10वीं और 12वीं(mp syllabus class 12) विषय निबंध को हटा दिया है अब प्रश्न भी 4 से ज्यादा नंबर तक के पूछे जा सकते हैं जानकारी के अनुसार मध्य प्रदेश बोर्ड ने 10वीं और 12वीं से निबंध लेखन का कोर्स अलग कर दिया है इस खबर के बाद 12वीं इंग्लिश पेपर में वंडर ऑफ साइंस सहित दसवीं के हिंदी पेपर है त्योहार पर निबंध नहीं आएगा बोर्ड में ऑब्जेक्टिव प्रश्न में बदल दिया है। 

पहले इंग्लिश में रहते थे यह निबंध(mp syllabus class 12) 

जानकारी के अनुसार आपको बताए तो एमपी बोर्ड में दसवीं और बारहवीं(class 10 and 12) में निबंध और लेटर राइटिंग(letter writing) इंग्लिश में एक जरूरी टॉपिक था निबंध में करीब 5 टॉपर कैसे रहते थे जो हमेशा पेपर में हर साल आते थे लेकिन छात्र इनमें से कम से कम तीन से चार बार निबंध रख लेते थे एक भी न मनाने से उनका काम आसान हो जाता था मुख्य रूप से इन टॉपिक्स पर ऐसे लिखने में भी आते थे। "Topics Changed"

  • Wonder Of Science
  • Independence Day
  • Population Problem
  • The Great Leader

हिंदी विषय में थे यह निबंध                          

शिवपुरी के एक सरकारी स्कूल के टीचर से जब हमारी मीडिया टीम ने संवाद किया तो उन्होंने बताया कि निबंध नहीं होने से बच्चों को काफी असुविधा भी होती है निबंध सही से नहीं लिख पाने के कारण अंक ज्यादा करते थे परंतु कई बार तो पूरी अंक टूट जाते थे ऐसे में बच्चे लो स्कोरिंग विषय मैं इसको परिवर्तन कर देते थे इस बार निबंध की जगह अनुच्छेद लेखन आया है यह सिर्फ एक तो 20 शब्दों में लिखना है निबंध ढाई सौ शब्दों का होता था जिसमें कई बार समय के अभाव में छात्रों का पेपर भी छूट जाता था यह निबंध हमेशा और हर साल पूछा जाता था जो निबंध ज्यादातर आते थे वह इस प्रकार थे। 

  • विज्ञान और मानव
  • विज्ञान का जीवन पर प्रभाव
  • विज्ञान की देन
  • जीवन में खेलों को महत्व
  • पर्यावरण प्रदूषण-कारण और निदान
  • बेरोजगारी एक समस्या
  • किसी एक त्योहार पर निबंध
  • देश के महान नेता के बारे में निबंध
  • विज्ञान अभिशाप अथवा वरदान
  • विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी

  • इस तरीके से हुए हैं पूरे बदलाव
  • इस बार परीक्षा को व्यावहारिक और व्यावसायिक बनाया गया है। इस बार बड़े नंबर की जगह एक से लेकर 4 नंबर तक के प्रश्न पूछे गए। इससे जहां विषय स्कोरिंग हो गया है। वहीं, नंबर कटने की आशंका कम हो गई है। उन सभी चीजों को हटा दिया गया, जो सिर्फ पढ़ने के लिए थीं। भविष्य में काम आने वाले टॉपिक को शामिल किया गया है। दो साल पहले CBSE पैटर्न को अपना लिया था, लेकिन पहली बार बच्चों ने पेपर दिया है। आगे के पेपर भी इसी तरह रहेंगे।

कोई टिप्पणी नहीं:

सहारा इंडिया की घोटाले पर एडवोकेट अजय टंडन के साथ LIVE | sahara india news |

लोकप्रिय पोस्ट