Breaking

रविवार 05 2021

Sahara News : cheating, fraud and malpractices being committed by all five sahara credit cooperative socities in India

 


                                                                  DELHI , INDIA                                                                        

This three page letter of  “ Central Registrar – Mr. Vivek Agarwal ” which had been addressed to “ M.C.A, New Delhi ” i.e requesting M.C.A , for necessary & extremely strict/toughest forms of actions against Sahara - contains all the real/actual incidents of  all types of  cheating, fraud & irregularities ( i.e all types of  Credit Co-operative Society rules violations ) which had been done/committed by Sahara Chairman & Sahara Group officials, time to time ( in very detailed/elaborate manner ).


Therefore, I request each & everyone of  us, that you all must see/read this 3 page letter of  Mr. Vivek Agarwal fully i.e in whole/full part i.e don’t skip to see this letter in any part.


"केंद्रीय रजिस्ट्रार - श्री विवेक अग्रवाल" का यह तीन पृष्ठ का पत्र जिसे "एमसीए, नई दिल्ली" को संबोधित किया गया था, यानी सहारा के खिलाफ कार्रवाई के आवश्यक और अत्यंत सख्त / सख्त रूपों के लिए एमसीए का अनुरोध - इसमें सभी वास्तविक / वास्तविक घटनाएं शामिल हैं सभी प्रकार की धोखाधड़ी, धोखाधड़ी और अनियमितताएं ( अर्थात सभी प्रकार की क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसाइटी के नियमों का उल्लंघन) जो सहारा के अध्यक्ष और सहारा समूह के अधिकारियों द्वारा समय-समय पर ( बहुत विस्तृत / विस्तृत तरीके से ) किया / किया गया हो।


इसलिए, मैं हम सभी से अनुरोध करता हूं, कि आप सभी श्री विवेक अग्रवाल के इस 3 पेज के पत्र को पूरी तरह से देखें / पढ़ें यानि कि इस पत्र को किसी भी भाग में देखना न भूलें।



No.R.I1017/48/2018-1AM 

To, 

The Secretary, Government of India, Ministry of Corporate Althirs, New Delhi 

Dated 18.08.2020 

Subject: Investigation Into the affairs of Amin", Valley Limited and other Sahara Group companies in which amount received from Members of Cooperative societies have been shown to be invested under suspect circumstances. 

Dear Sir, 

As Central Registrar of Multi State Cooperative Societies, incorporated under Multi State Cooperative Societies Act 2002, the undersigned has received more than 15,000 complaints by depositors/members of Sahara Credit Cooperative Society Ltd., Sahara Universal Multipurpose Society Ltd., Human India Credit Cooperative Society Ltd. and Stars Multipurpose Cooperative Society Ltd. in the last 8 months. On receiving such high volume of complaints, hearings were conducted by the undersigned and the management of these societies was summoned to explain with regard to the complaints received and their redressal. 

Following facts have emerged in respect of the aforementioned Cooperative Societies: - 

1) These 4 credit cooperative societies, that is, Sahara Credit Cooperative Society Ltd, Lucknow (registered in 2010 having area of operation in 22 states/UTs), Saharayan Universal Multipurpose Society Ltd., Bhopal (registered in 2014 having area of operation in 17 states/UTs), Humara India Credit Cooperative Society Ltd., Kolkata (Registered in 2012 having area of operation in 15 states/UTs) and Stars Multipurpose Cooperative Society Ltd. Hyderabad (Registered in 2014 having area of operation in 14 states/UTs) are all under common management of Sahara Group which has a number of companies incorporated under the Companies Act under its management as well. 2) Sahara Credit Cooperative Society Ltd. has taken deposits of INR 47,245 Croce from approximately 4 Crore depositors, Saharayan Universal Multipurpose Society Ltd. has taken deposits in the form of contributions amounting to INR 18,000 Crore from approximately 3.71 Crore members, Stars Multipurpose Cooperative Society Limited has taken deposits in form of contributions amounting to INR 3,470 Crore : from approximately 37 lakh members and Humara India Credit Cooperative Society Ltd. has taken deposits of INR 12,958 Crore from approximately 1.8 Crore members. 

सं.आर.I1017/48/2018-1 पूर्वाह्न


प्रति,


सचिव, भारत सरकार, कॉर्पोरेट अल्थिर्स मंत्रालय, नई दिल्ली


दिनांक 18.08.2020


विषय: अमीन", वैली लिमिटेड और अन्य सहारा समूह की कंपनियों के मामलों की जांच जिसमें सहकारी समितियों के सदस्यों से प्राप्त राशि को संदिग्ध परिस्थितियों में निवेश किया गया दिखाया गया है।


श्रीमान,


मल्टी स्टेट कोऑपरेटिव सोसाइटीज एक्ट 2002 के तहत निगमित मल्टी स्टेट कोऑपरेटिव सोसाइटीज के सेंट्रल रजिस्ट्रार के रूप में, अधोहस्ताक्षरी को सहारा क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड, सहारा यूनिवर्सल मल्टीपर्पज सोसाइटी लिमिटेड, ह्यूमन इंडिया क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसाइटी के जमाकर्ताओं / सदस्यों द्वारा 15,000 से अधिक शिकायतें मिली हैं। लिमिटेड और पिछले 8 महीनों में स्टार्स मल्टीपर्पज कोऑपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड। इतनी अधिक मात्रा में शिकायतें प्राप्त होने पर अधोहस्ताक्षरी द्वारा सुनवाई की गई और इन समितियों के प्रबंधन को प्राप्त शिकायतों और उनके निवारण के संबंध में स्पष्टीकरण के लिए तलब किया गया।


उपरोक्त सहकारी समितियों के संबंध में निम्नलिखित तथ्य सामने आए हैं: -


1) ये 4 क्रेडिट सहकारी समितियां, यानी सहारा क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड, लखनऊ (2010 में पंजीकृत 22 राज्यों / केंद्र शासित प्रदेशों में संचालन के क्षेत्र में), सहारन यूनिवर्सल मल्टीपर्पज सोसाइटी लिमिटेड, भोपाल (2014 में परिचालन के क्षेत्र में पंजीकृत) 17 राज्य/केंद्र शासित प्रदेश), हमारा इंडिया क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड, कोलकाता (2012 में पंजीकृत 15 राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों में संचालन के क्षेत्र वाले) और स्टार्स मल्टीपर्पज कोऑपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड हैदराबाद (2014 में पंजीकृत 14 राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों में संचालन का क्षेत्र) ) सभी सहारा समूह के सामान्य प्रबंधन के अधीन हैं, जिसके प्रबंधन के तहत कंपनी अधिनियम के तहत कई कंपनियां भी शामिल हैं। 2) सहारा क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड ने लगभग 4 करोड़ जमाकर्ताओं से 47,245 करोड़ रुपये की जमा राशि ली है, सहारा यूनिवर्सल मल्टीपर्पज सोसाइटी लिमिटेड ने लगभग 3.71 करोड़ सदस्यों, स्टार्स मल्टीपर्पज कोऑपरेटिव सोसाइटी से 18,000 करोड़ रुपये के योगदान के रूप में जमा किया है। लिमिटेड ने 3,470 करोड़ रुपये के योगदान के रूप में जमा राशि ली है: लगभग 37 लाख सदस्यों से और हमरा इंडिया क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड ने लगभग 1.8 करोड़ सदस्यों से 12,958 करोड़ रुपये जमा किए हैं।

3) Information provided by the management of these four cooperative societies has revealed

that Sahara Credit Cooperative Society Ltd. has invested INR 28,170 Crore in Ambey

Valley Limited, a company incorporated under the Companies Act, Saharayan Universal

Multipurpose Society Limited has invested INR 17,945 Crore in Ambey Valley Limited,

Stars Multipurpose Cooperative Society Ltd. has invested INR 6,273 Crore in Ambey

Valley Limited and Humara India Credit Cooperative Society Ltd. has invested INR

10,255 Crore in Ambey Valley Limited. A total amount of INR 62,643 Crore has shown

to be invested in Ambey Valley Limited by these four cooperative societies against their

total deposits of INR 86,673 Crore.

4) In addition to large scale investment in Ambey Valley Limited which is a Sahara Group

Company with Shri Subarato Sahara as a promoter significant investments have also been

depicted in the accounts of these four cooperative societies purported to have been made

in other Sahara Group Companies like Sahara India Commercial Corporation Limited,

Sahara Prime City Limited Lucknow, Sahara Housing Projects in Versova, Mumbai,

Sahara Financial Corporation Limited, Sahara Hospitality, Sahara India Limited etc.

5) The examination of Profit and Loss accounts of these cooperative societies reveal that

fictitious profits have been shown for transaction of sale and purchase of shards of

Ambey Valley Limited amongst the group entities. These entities show income from sale

of shares whereas such transfers have happened within the group entities only.

6) During the hearing, management of Sahara Credit Cooperative Society Ltd. also revealed

that an amount of INR 2,253 Crore has been taken out from the funds of the society and

deposited with SEBI on account of the dispute of Sahara Real Estate Limited and has

been shown as an advance to Shri Subarato Sahara. How such a large sum has been

siphoned off and deposited on account of the liability of another company namely Sahara

Real Estate Limited remains unexplained.

7) The hard earned money and deposits made by crores of Indian citizens in these four

Cooperative Societies are under serious threat of erosion. All such deposits are now at the

mercy of Sahara Group companies especially Ambey Valley Limited, therefore it is

expedient in the public interest to order investigation in the affairs of Ambey Valley

Limited and other Sahara Group Companies who have received funds from these

cooperatives by Serious Fraud Investigation Office under Section 212 of the Companies

Act, 2013. This investigation is required to ascertain the valuation of assets held by these

companies, valuation of shares which have been allotted to these cooperatives,

justification of charging premium over the face value of shares at the time of allotment,

usage of funds received from these cooperatives, legal validity of various joint venture

agreements signed by these companies with cooperative societies and any other matter

3) इन चार सहकारी समितियों के प्रबंधन द्वारा प्रदान की गई जानकारी से पता चला है


सहारा क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड ने अंबे में 28,170 करोड़ रुपये का निवेश किया है


वैली लिमिटेड, कंपनी अधिनियम के तहत निगमित एक कंपनी, सहारा यूनिवर्सल


मल्टीपर्पज सोसाइटी लिमिटेड ने अम्बे वैली लिमिटेड में 17,945 करोड़ रुपये का निवेश किया है।


स्टार्स मल्टीपर्पज कोऑपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड ने अम्बे में 6,273 करोड़ रुपये का निवेश किया है


वैली लिमिटेड और हमरा इंडिया क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड ने INR . का निवेश किया है


एंबे वैली लिमिटेड में 10,255 करोड़। INR 62,643 करोड़ की कुल राशि दिखाई गई है


इन चार सहकारी समितियों द्वारा एंबे वैली लिमिटेड में निवेश किया जाना है


INR 86,673 करोड़ की कुल जमा राशि।


4) एंबे वैली लिमिटेड में बड़े पैमाने पर निवेश के अलावा जो एक सहारा समूह है


कंपनी श्री सुबारतो सहारा के साथ एक प्रमोटर के रूप में महत्वपूर्ण निवेश भी किया गया है


कथित रूप से बनाई गई इन चार सहकारी समितियों के खातों में दर्शाया गया है


सहारा इंडिया कमर्शियल कॉर्पोरेशन लिमिटेड जैसी अन्य सहारा समूह की कंपनियों में,


सहारा प्राइम सिटी लिमिटेड लखनऊ, वर्सोवा, मुंबई में सहारा हाउसिंग प्रोजेक्ट्स,


सहारा फाइनेंशियल कॉर्पोरेशन लिमिटेड, सहारा हॉस्पिटैलिटी, सहारा इंडिया लिमिटेड आदि।


5) इन सहकारी समितियों के लाभ और हानि खातों की जांच से पता चलता है कि


के टुकड़ों की बिक्री और खरीद के लेनदेन के लिए काल्पनिक लाभ दिखाया गया है


समूह संस्थाओं के बीच अम्बे वैली लिमिटेड। ये संस्थाएं बिक्री से आय दर्शाती हैं


शेयरों का जबकि इस तरह के हस्तांतरण केवल समूह संस्थाओं के भीतर हुए हैं।


6) सुनवाई के दौरान सहारा क्रेडिट कोऑपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड के प्रबंधन ने भी खुलासा किया


कि सोसायटी के फंड से 2,253 करोड़ रुपये की राशि निकाली गई है और


सहारा रियल एस्टेट लिमिटेड के विवाद के कारण सेबी के पास जमा किया गया और है सुबारतो सहारा को अग्रिम के रूप में दिखाया गया है। कैसे हो गई इतनी बड़ी रकम

दूसरी कंपनी सहारा की देनदारी के कारण चोरी हो गई और जमा कर दी गई


रियल एस्टेट लिमिटेड अस्पष्टीकृत बनी हुई है।


7) इन चारों में करोड़ों भारतीय नागरिकों द्वारा की गई गाढ़ी कमाई और जमा राशि


सहकारी समितियां क्षरण के गंभीर खतरे में हैं। ऐसे सभी जमा अब में हैं


सहारा समूह की कंपनियों खासकर एंबे वैली लिमिटेड की दया, इसलिए यह है


जनहित में समीचीन है कि अम्बे घाटी के मामलों की जांच का आदेश दिया जाए


लिमिटेड और अन्य सहारा समूह की कंपनियां जिन्हें इनसे धन प्राप्त हुआ है


कंपनियों की धारा 212 के तहत गंभीर धोखाधड़ी जांच कार्यालय द्वारा सहकारी समितियां


अधिनियम, 2013। यह जांच इनके द्वारा रखी गई संपत्ति के मूल्यांकन का पता लगाने के लिए आवश्यक है


कंपनियों, शेयरों का मूल्यांकन जो इन सहकारी समितियों को आवंटित किए गए हैं,


आवंटन के समय शेयरों के अंकित मूल्य पर प्रीमियम वसूलने का औचित्य,


इन सहकारी समितियों से प्राप्त धन का उपयोग, विभिन्न संयुक्त उद्यम की कानूनी वैधता


इन कंपनियों द्वारा सहकारी समितियों और किसी भी अन्य मामले के साथ समझौते पर हस्ताक्षर किए गए


In the light of aforementioned facts, it is requested that an investigation may be ordered

under section 212 of the Companies Act, 2013 to be conducted by Serious Fraud

Investigation Office into the affairs of Sahara Group Companies specifically mentioned in

this letter including Ambey Valley Limited in public interest with a direction to complete the

investigation as soon as possible. Apart from taking legal action as required under the

Companies Act, a report of this investigation may also be conveyed to the under signed so

that consequent action under the provisions of Multi State Cooperative Societies Act 2002

can be initiated.

उपरोक्त तथ्यों के आलोक में अनुरोध है कि जांच के आदेश दिए जाएं

गंभीर धोखाधड़ी द्वारा संचालित कंपनी अधिनियम, 2013 की धारा 212 के तहत

सहारा समूह की कंपनियों के मामलों में जांच कार्यालय का विशेष रूप से उल्लेख किया गया है

इस पत्र को अम्बे वैली लिमिटेड सहित जनहित में पूरा करने के निर्देश के साथ

जांच जल्द से जल्द। के तहत आवश्यक कानूनी कार्रवाई करने के अलावा

कंपनी अधिनियम, इस जांच की एक रिपोर्ट को भी अधोहस्ताक्षरी को अवगत कराया जा सकता है

बहु राज्य सहकारी समिति अधिनियम 2002 के प्रावधानों के तहत परिणामी कार्रवाई

शुरू किया जा सकता है।


कोई टिप्पणी नहीं:

Contact Us Form

नाम

ईमेल *

संदेश *

लोकप्रिय पोस्ट