Breaking

शुक्रवार 17 2021

छात्रों ने मूल्यांकन का बहिष्कार किया और कहा "जब जांच ऑनलाइन होती है तो मूल्यांकन क्यों काट दिया जाता है"?

 परमार ने बताया कि समय से महज दो दिन पहले टाइम टेबल देकर और एक दिन पहले कार्ड देकर परीक्षार्थियों को परीक्षा देने के लिए मजबूर किया जा रहा है।





भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। सेम ग्लोबल यूनिवर्सिटी भोपाल में छात्रों ने मूल्यांकन का बहिष्कार किया और धरने पर बैठ गए। छात्रों का कहना है कि जब लगातार ऑनलाइन जांच हो रही है तो परीक्षा क्यों काट दी गई? इतना ही नहीं जब छात्रों ने स्कूल के अधिकारियों के सामने अपना पक्ष रखा, तो छात्रों को गारंटी दी गई लेकिन बाद में उनकी अनदेखी की गई।

 यह भी पढ़े CABINET METTING : शिवराज Cabinet की अहम बैठक बंद, कई अहम सुझावों को मिला समर्थन

News 4K India से बातचीत करते हुए एनएसयूआई के छात्र नेता रवि परमार ने कहा कि यह धरना स्कूल बोर्ड की ओर से सब्जेक्टिव असेसमेंट लेने के लिए दिया जा रहा है. उन्होंने कहा कि जब पूरे साल पढ़ाई वेब पर होती है तो परीक्षा क्यों काट दी जाती है? इसके अलावा उन्होंने बताया कि जब इस बारे में विद्यार्थियों ने स्कूल के अधिकारियों से बात की तो प्रशासन की ओर से उन पर ध्यान देने की बात कही गई. वैसे भी समय से दो दिन पहले टाइम टेबल देकर और एक दिन पहले कार्ड देकर परीक्षार्थियों को परीक्षा देने के लिए मजबूर किया जा रहा है। इसके अलावा परमार ने कहा कि जिस विषय पर आज पेपर होना था उस पर कभी बात नहीं हुई और जब इस मामले को लेकर छात्रों ने मुखिया से मिलने का प्रयास किया तो उन्हें मिलने नहीं दिया गया. इसके चलते सभी छात्रों ने मूल्यांकन का बहिष्कार किया है और धरना का आयोजन कर रहे हैं।

यह भी पढ़े :- जिंदा है शीना बोरा? मर्डर मिस्ट्री ट्विस्ट के रूप में इंद्राणी मुखर्जी ने सीबीआई से कश्मीर में बेटी की तलाश करने को कहा

https://www.videosprofitnetwork.com/watch.xml?key=84e03d4a34c04d36407a5e9a5f2b0a39

बहरहाल, इस मामले में अब तक स्कूल बोर्ड की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। वर्तमान में यह देखा जाना चाहिए कि स्कूल के अधिकारी छात्रों के अनुरोधों के संबंध में क्या विकल्प चुनते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

लोकप्रिय पोस्ट