Breaking

शनिवार 04 2021

Bhopal -City In India : मप्र पंचायत चुनाव 2021 3 चरणों में होंगे चुनाव, जनवरी-फरवरी में होगी वोटिंग

मप्र पंचायत चुनाव 2021: 3 चरणों में होंगे चुनाव, जनवरी-फरवरी में होगी वोटिंग



भोपाल। 

एजेंसी


मध्य प्रदेश में पंचायत चुनाव को लेकर हलचल तेज हो गई है।आज शाम राज्य निर्वाचन आयोग की अहम प्रेस कॉन्फ्रेंस होना है, ऐसे में पूरी संभावना जताई जा रही है कि आज शाम तारीखों का ऐलान हो सकता है और आचार संहिता भी आज शाम से ही लगाई जाए। पंचायत चुनाव 3 चरणों में होने है, ऐसे में जनवरी और फरवरी तक वोटिंग करवाई जा सकती है।हालांकि अभी अधिकारिक घोषणा होना बाकी है।


चुनाव आयोग के निर्देशानुसार, पंचायत चुनाव तीन चरणों में आयोजित कराए जाएंगे। इसमें सरपंच और पंचों को ऑनलाइन नामांकन नहीं बल्कि निर्वाचन कार्यालय में जाकर ही फॉर्म भरकर जमा कराने होंगे, लेकिन जिला पंचायत के लिए ऑनलाइन नामांकन किया जाएगा। इसके अलावा जिला और जनपद में EVM से वोटिंग होगी और ग्राम स्तर पर मतपत्र के जरिए वोटिंग कराई जाएगी।इसके अलावा पंच, सरपंच, जनपद पंचायत तथा जिला पंचायत सदस्य के अभ्यर्थियों को अपने नाम-निर्देशन पत्र के साथ पंचायत को देय समस्त शोध्यों का अदेय प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना अनिवार्य होगा।


नाम निर्देशन पत्र के साथ अदेय प्रमाण पत्र प्रस्तुत नहीं करने वाले नाम-निर्देशन पत्र निरस्त कर दिया जाएगा। अदेय प्रमाण पत्र निर्वाचन घोषणा के पूर्व के वित्तीय वर्ष तक का प्रस्तुत करना होगा। अर्थात यदि माह दिसंबर 2014 में निर्वाचन की घोषणा होती है तो 31 मार्च 2014 की स्थिति में अदेय प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना होगा।निर्धारित प्रारूप में अदेय प्रमाण पत्र ग्राम पंचायत के लिए सचिव द्वारा, जनपद पंचायत के लिए CEO जनपद पंचायत द्वारा और जिला पंचायत के लिए CEO जिला पंचायत द्वारा जारी किया जाएगा।अभ्यर्थी द्वारा जिस पंचायत के लिए नाम-निर्देशन पत्र भरा जा रहा है, उस पंचायत का अदेय प्रमाण पत्र, नाम-निर्देशन पत्र के साथ संलग्न करना अनिवार्य होगा।


उम्मीदवारों को इन बातों का रखना होगा ध्यान


राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा पंचायत चुनाव के लिये ऑनलाईन नाम निर्देशन पत्र प्रस्तुत करने की प्रक्रिया के संबंध में आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किये गये हैं।इसके तहत जिला एवं जनपद पंचायत सदस्य पद के अभ्यर्थियों को ऑनलाईन नाम निर्देशन ‘‘ऑलिन’’ एप्लीकेशन के माध्यम से भरने की अतिरिक्त सुविधा प्रदान की गई हैं। यह सुविधा अनिवार्य नही हैं अभ्यर्थी स्वेच्छा से इस सुविधा का लाभ उठा सकते हैं।


ऑनलाईन नाम निर्देशन भरते समय अभ्यर्थी के पास मोबाईल फोन, चल-अचल संपत्ति का विवरण, आपराधिक प्रकरणों के सबंध में अभ्यर्थी का शपथ पत्र, अभ्यर्थी और प्रस्तावक का मतदाता सूची में नाम दर्ज होने से संबंधित जानकारी अर्थात ग्राम पंचायत एवं खण्ड का नाम, वार्ड क्रमांक और मतदाता सूची का क्रमांक तथा प्रतिभूति निक्षेप राशि जमा करने की रसीद इत्यादि होना चाहिए।


निजी कम्प्यूटर अथवा लैपटॉप पर ऑनलाईन नाम निर्देशन पत्र भरे जा सकते हैं। इसके अलावा MP online कियोस्क पर तथा लोक सेवा केन्द्रों पर सेवा शुल्क 35 रूपये प्रति नॉमीनेशन फार्म संलग्नक सहित एवं 5 रूपये प्रति प्रिंट आऊट पर कर सकते हैं तथा RO कार्यालय में स्थापित सुविधा केन्द्र पर यह निःशुल्क किया जा सकता हैं।


ऑनलाईन नाम निर्देशन पत्र जमा करने का समय प्रात: 10:30 बजे से शाम 5:30 बजे तक होगा। वहीं नाम निर्देशन की अंतिम तारीख को प्रात: 8 बजे से दोपहर 12 बजे तक यह सुविधा उपलब्ध होगी। नाम निर्देशन पत्र भरने के लिए निजी कम्प्यूटर या लेपटॉप पर MP Online कियोस्क, लोकसेवा केन्द्र और रिटर्निंग ऑफिसर कार्यालय में स्थापित सुविधा केन्द्र पर जमा किए जा सकेंगे।



बड़ी ब्रेकिंग 


मध्यप्रदेश पंचायत चुनाव का बज सकता है  बिगुल, 


शाम 4 बजे से लग सकती है आचार संहिता


राज्य निर्वाचन आयोग की शाम 4:00 बजे प्रेस वार्ता


निर्वाचन आयुक्त बसंत प्रताप सिंह करेंगे प्रेस को संबोधित


संभावित प्रेस कॉन्फ्रेंस में कर सकते हैं आचार संहिता व  पंचायत चुनाव की तिथियों  की घोषणा

 बड़ी खबर


मध्यप्रदेश में पंचायत चुनाव की आचार संहिता लागू

 मध्यप्रदेश में पंचायत चुनाव की तारीखों का हुआ ऐलान

[6मध्यप्रदेश पंचायत चुनाव 


6 जनबरी 

28 जनवरी

16 फरवरी 


तीन चरण में होंगे चुनाव

ब्रेकिंग भोपाल


राज्य निर्वाचन आयुक्त बसंत प्रताप सिंह की प्रेस कॉन्फ्रेंस

पहले

राज्य सरकार ने चिट्ठी लिखकर चुनाव न कराए जाने का सुझाव दिया था, इसलिए पहले चुनाव नहीं हो सके ।



पंचायत चुनाव का ऐलान

859 जिला सदस्य

6727 जनपद सदस्य

22581 सरपंच के होंगे चुनाव

362754 लाख पंच

के लिए होंगे चुनाव


114 पंचायतों में मार्च 2022 में कार्यकाल समाप्त होने पर होगा चुनाव


सरकार ने 2014 के आरक्षण की स्थिति बहाल की है ।


2014 में जितनी भी नई ग्राम पंचायत और वार्ड बने थे वह विलोपित (निरस्त) किए गए हैं


तकनीकी तैयारियों में लगा समय👆👆

कोई टिप्पणी नहीं:

Contact Us Form

नाम

ईमेल *

संदेश *

लोकप्रिय पोस्ट