Breaking

सोमवार 06 2021

दवा लगने के बाद भी पोलियो का 48 Lakh हर्जाना : राजगढ़ के दिव्यांग में 27 साल सुप्रीम कोर्ट तगड़ी लड़ाई ब्याज सहित मिली पूरी रकम

 News By :- Priyanshu Sharma


राजगढ़ के एक युवक को 27 साल बाद न्याय मिला है उसे दवा पीने के बाद भी पोलियो हो गया था और उसके दोनों पैर खराब हो गए थे दिव्यांग ने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया हो कोर्ट ने उसे ₹48,000 हर्जाना देने का आदेश शासन को दिया मामला और पूर्व गांव के रहने वाले देवीलाल काय देवीलाल m.a. कर रहे हैं

दिव्यांग के वकील समीर सक्सेना और ऋषि सक्सेना ने न्यूज़ पूरे इंडिया को यह बताया कि देवीलाल ने 1995 में पोलियो की दवाई पी थी तबियत 3 साल के थे दवा पीने के बाद भी पोलियो ग्रस्त रहे इसके बाद प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग से मुआवजे की मांग की पर सुनवाई नहीं होने पर उसने 996 में राजगढ़ कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था राजगढ़ कोर्ट ने 1999 में ₹25000 हर्जाना का आदेश शासन को दिया था इस पर देवीलाल और उसके परिजन इंदौर हाई कोर्ट पहुंच गए या 17 साल तक सुनवाई चली गई इसके बाद हाईकोर्ट ने ₹1000000 क्षति पूर्ति राशि 1996 से ब्याज सहित देने का आदेश शासन को दिया था


दिव्यांग के वकीलों के अनुसार राजगढ़ कोर्ट ने 1999 यह नहीं माना था कि पोलियो की दवाई से पोलियो का विपरीत असर भी हो सकता है और उन्होंने शासन को आदेश दिया कि वह रकम उन्हें लौटा है तभी शासन ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर दी थी जिसे कोर्ट ने द्वारा 18 में निरस्त कर दिया फिर हाईकोर्ट के फैसले के आधार पर मामला राजगढ़ कोर्ट पहुंचा था राजगढ़ कोर्ट ने 3 साल चली कानूनी लड़ाई के बाद दिव्यांग को ब्याज से पूरी राशि का भुगतान कर दिया है इस तरह देवीलाल ने करीब 27 साल तक कानूनी कार्रवाई लड़ी है






कोई टिप्पणी नहीं:

Contact Us Form

नाम

ईमेल *

संदेश *

लोकप्रिय पोस्ट